गंगा की रक्षा के लिए 111 दिनों तक अनशन पर बैठे स्वामी सानंद का निधन

हरिद्वारः हरिद्वार में गंगा की रक्षा के लिए अनशन पर बैठे स्वामी ज्ञान स्वरूप सानंद की गुरुवार को ऋषिकेश के एम्स अस्पताल में मृत्यु हो गई है। अनशन के 111वें दिन बुधवार को प्रशासन ने स्वामी सानंद को अनशन स्थल से उठाकर अस्पताल में भर्ती करवाया था। 

PunjabKesari

जानकारी के अनुसार, धर्मनगरी हरिद्वार के मातृ सदन में पिछले 110 दिनों से स्वामी सानंद गंगा की रक्षा के लिए अनशन पर बैठे थे। स्वामी ने बुधवार सुबह से जल का भी त्याग कर दिया था। इसके बाद एसडीएम के नेतृत्व में प्रशासन ने अनशन के 111वें दिन बुधवार को स्वामी सानंद को उठाकर ऋषिकेश के एम्स अस्पताल में भर्ती करवाया गया था, जहां पर गुरुवार को हृदय गति रुकने से उनकी मौत हो गई। 

PunjabKesari
स्वामी सानंद ने गंगा की रक्षा के लिए कानून बनाए जाने की मांग की थी। स्वामी का कहना था कि वह गंगा की रक्षा के लिए केंद्र द्वारा सख्त कानून बनाने को लेकर प्रधानमंत्री सहित मंत्रियों और मुख्यमंत्रियों को कई बार पत्र लिख चुके हैं। कोई आश्वासन नहीं मिलने से निराश होकर उन्होंने अपने प्राणों की आहुति देने के संकल्प के साथ अब जल भी त्यागने का फैसला किया। स्वामी ने कहा था कि वह गंगा में बड़े बांधों के निर्माण का विरोध कर रहे हैं। गंगा में बनने वाली बांध परियोजनाओं को तत्काल रद्द किया जाना चाहिए। केंद्र सरकार को गंगा में फैल रहे प्रदूषण और अवैध खनन को रोकने के लिए सख्त कानून बनाने चाहिए।

PunjabKesari

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!
× RELATED 110 दिनों से अनशन पर बैठे स्वामी सानंद से पूर्व सीएम ने की मुलाकात, गंगा की रक्षा करने का दिया आश्वासन