चुनाव आयोग को 194 नेताओं ने दी गलत पैन कार्ड की जानकारी, इन पार्टियों के नेता भी हैं शामिल

नेशनल डेस्कः देश में राजनीतिक दलों को लेकर एक बड़ा खुलासा हुआ है। देश के करीब 194 नेताओं ने चुनाव आयोग को पैन कार्ड की गलत जानकारी दी है। इनमें 6 पूर्व मुख्यमंत्री, 10 कैबिनेट मंत्री, 8 पूर्व मंत्री, 54 वर्तमान विधायक, 102 पूर्व विधायक, एक पूर्व डिप्टी स्पीकर, एक पूर्व स्पीकर, एक पूर्व सांसद और एक उप-मुख्यमंत्री शामिल हैं।

PunjabKesari

कोबरा पोस्ट की रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि ये नेता देश की 29 छोटी-बड़ी राजनीतिक पार्टियों से जुड़े हैं। इनमें भाजपा के 41 नेता शामिल हैं, जिसमें 13 विधायक, 15 पूर्व विधायक, 9 मंत्री, 1 पूर्व स्पीकर, एक पूर्व मंत्री, एक पूर्व मुख्यमंत्री और एक राज्यपाल शामिल हैं। वहीं बात करें कांग्रेस की तो कुल 72 नेताओं ने चुनाव आयोग को पैन कार्ड का गलत विवरण दिया है, जिनमें 13 विधायक, 48 पूर्व विधायक, एक मंत्री, 5 पूर्व मंत्री, 4 पूर्व मुख्यमंत्री और एक पूर्व डिप्टी स्पीकर शामिल हैं।

PunjabKesari

क्षेत्रीय राजनीतिक दलों की बात करें तो समाजवादी पार्टी के 12 नेता हैं, जिनमें एक 1 मौजूदा विधायक और 11 पूर्व विधायक शामिल हैं। बसपा के 8 नेताओं ने गलत पैन विवरण दिया है, जिनमें 1 मौजूदा विधायक और 7 पूर्व विधायक का नाम शामिल है। बिहार की सत्ताधारी दल जेडीयू के 6 नेताओं में 3 विधायक, 1 पूर्व विधायक और 1 पूर्व मंत्री और एक पूर्व सांसद शामिल हैं।

PunjabKesari

वेबसाइट के मुताबिक, पैन कार्ड का फर्जी विवरण देने वालों में, मध्य प्रदेश के 17, बिहार के 15, असम के 13, उत्तराखंड के 14, हिमाचल प्रदेश के 12, राजस्थान के 11 नेता शामिल हैं। बड़े नेताओं में तरुण गोगोई, भूमिधर बर्मन, बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी के साथ हिमाचल प्रदेश के पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह और कई मौजूदा कैबिनेट मंत्रियों के नाम शामिल हैं। वर्तमान में मंत्रियों की बात करें तो राजस्थान की बीना काक, बिहार के नंद किशोर यादव, महाराष्ट्र के विजय कुमार, हरियाणा की कविता जैन और हिमाचल प्रदेश के किशन कपूर का नाम प्रमुख है।

PunjabKesari

वेबसाइट ने खुलासा किया है कि हिमाचल प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल ने 2007 और 2012 के विधानसभा चुनाव में अलग-अलग पैन नंबर दिए थे। हिमाचल के ही पाचं बार के विधायक और मंत्री रहे किशन कपूर ने भी 2007 और 2012 के चुनावों में अलग-अलग पैन नंबर दिया था। कोबरा पोस्ट के खुलासे में, हरियाणा की मौजूदा खट्टर सरकार की मंत्री कविता जैन ने 2009 और 2014 के चुनावों में अलग-अलग पैन नंबर दिया था। 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!
× RELATED महिला नेताओं को डर- मीटू का दुरुपयोग हुआ तो होगा बुरा हश्र