PWD पर सड़क निर्माण में कोताही बरतने का आरोप, CM के पास पहुंचा मामला

करसोग (यशपाल): लोक निर्माण विभाग मंडल करसोग पर अवैध कब्जा बचाने के लिए सड़क निर्माण में कोताही बरतने का आरोप लगा है। मामला राणाबाग-बिहणी-सेरी सड़क से जुड़ा बताया जा रहा है। करसोग के साथ लगते सिराज क्षेत्र में तकरीबन 9 किलोमीटर लंबी इस सड़क का निर्माण कार्य वर्ष 2010 में शुरू किया गया तथा सड़क निर्माण कार्य शुरू होने के कुछ ही दिनों के बाद सड़क निर्माण कार्य विवादों में आ गया। उपतहसील छतरी के बिहणी क्षेत्र से ताल्लुक रखने वाले झरेड़ निवासी पूर्व प्रधान (झरेड़) पद्म सिंह भारद्वाज ने सड़क निर्माण में हुई अनियमितताओं व अवैध कब्जे को बचाने के लिए सर्वे से छेड़छाड़ करने के गंभीर आरोप लोक निर्माण विभाग पर लगाए हैं। वर्ष 2007 में हुए सर्वे के मुताबिक सड़क निर्माण कार्य न करने का मामला मुख्यमंत्री तक भी पहुंच गया है।


मिलकियत भूमि पर पर ठिकाने लगाया सड़क का मलबा
बकौल पद्म सिंह भारद्वाज सड़क का निर्माण कार्य सर्वे के अनुसार न होने की जानकारी उन्होंने विभाग के अधिकारियों को भी दी थी लेकिन विभागीय कार्रवाई का भरोसा देकर मामले को शांत कर दिया गया लेकिन इसी बीच सड़क निर्माण को सर्वे के अनुसार न करते हुए व्यक्ति विशेष के अवैध कब्जे को बचाने के लिए विभागीय अधिकारियों व निर्माण में जुटे ठेकेदार ने सड़क निर्माण का रुख ही बदल दिया। सड़क निर्माण के दौरान जहां वन सम्पदा को मलबा फैंकने के कारण नुक्सान हुआ बताया जा रहा है तो वहीं मामले का पटाक्षेप करने वाले पद्म सिंह भारद्वाज की मिलकियत भूमि पर भी सड़क निर्माण के दौरान निकले मलबे को ठिकाने लगाया गया।


एस.डी.ओ. ने जे.ई. को मामला सौंप कर्तव्य से कर ली इतिश्री
अपनी उपजाऊ भूमि पर ठिकाने लगाए गए मलबे के ढेर की शिकायत संबंधित उपमंडल के एस.डी.ओ. से करने के बावजूद भी कोई कार्रवाई नहीं करने का आरोप लगाते हुए भारद्वाज ने बताया कि उन्होंने एस.डी.ओ. को 2 मर्तबा फोन किया, जिस पर उन्होंने मामला जे.ई. के सुपुर्द करने की बात कहकर उन्होंने अपने कर्तव्य से इतिश्री कर ली।


निजी भूमि पर 2 जगह फैंका गया मलबा
सड़क निर्माण शुरू होते ही लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों व कर्मचारियों का रवैया संतोषजनक न होने का हवाला देते हुए उन्होंने बताया कि सड़क निर्माण के दौरान सर्वे के साथ अवैध कब्जे को बचाने के लिए छेड़छाड़ की गई है तथा उनकी निजी भूमि पर 2 जगह मलबा फैंका गया है। मलबे के चलते उनकी भूमि कृषि योग्य नहीं रही है, जिसके चलते उन्हें आर्थिक तौर पर परेशानियों से जूझना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि अवैध कब्जे को बचाने के लिए सर्वे से छेड़छाड़ करने के मामले में लोक निर्माण विभाग की कार्यप्रणाली पर जांच की मांग करते हुए तथ्यों सहित जानकारी मुख्यमंत्री को सौंप दी गई है।


क्या कहते हैं अधिशासी अभियंता
अधिशासी अभियंता करसोग मान सिंह ने बताया कि हाल ही में पद संभाला है तथा मामले की जानकारी नहीं है। अब मामला उनके ध्यान में आ गया है तथा संबंधित क्षेत्र के फील्ड कर्मचारियों व एस.डी.ओ. से मामले की फीडबैक लेने के बाद ही उचित कार्रवाई की जा सकेगी।


क्या कहते हैं अधीक्षण अभियंता
लोक निर्माण विभाग प्रथम वृत्त मंडी के अधीक्षण अभियंता करतार चंद ने बताया कि इस मामले पर जांच के लिए संबंधित क्षेत्र के एक्सियन से बात की जाएगी और जो भी लोक निर्माण विभाग द्वारा सड़क चिन्हित की गई है, उसकी जानकारी लेकर आगामी कार्रवाई की जाएगी।