कोटरोपी का दर्द जानने पहुंचे DC, लोगों को दिलाया भरोसा (Video)

मंडी (नीरज): करीब एक साल पहले कोटरोपी में हुई भीषण त्रासदी के बाद मंडी जिला प्रशासन हरकत में आया है। कोटरोपी में मौजूदा स्थिति क्या है यह जांचने के लिए डीसी मंडी ऋग्वेद ठाकुर खुद ग्राउंड जीरो पर पहुंचे और पूरे हालातों का जायजा लिया। उनके साथ एडीएम मंडी राजीव कुमार, एसडीएम पधर आशीष शर्मा और आईआईटी के विशेषज्ञों सहित तमाम अधिकारी मौजूद रहे। डीसी ने कोटरोपी के चप्पे-चप्पे में जाकर स्थिति का जायजा लिया। स्थानीय लोगों से मुलाकात और प्रभावित गांव तथा घरों में जाकर लोगों से मिलकर उनकी समस्याओं को जानने का प्रयास किया। 
PunjabKesari

उन्होंने बताया कि कोटरोपी के पास आईआईटी मंडी के सहयोग से दो सेंसर लगाए जाएंगे और इन्हें जल्द ही स्थापित कर दिया जाएगा। यह सेंसर भूस्खलन की चेतावनी जारी करेंगे। मिट्टी के खिसकने का क्रम शुरू होते ही एक मैसेज मोबाइल पर चला जाएगा और यदि खतरा ज्यादा बड़ा हुआ तो जोर का हूटर बजेगा। इसके अलावा अन्य जो संवेदनशील स्पॉट हैं वहां पर भी ऐसे ही सेंसर लगाए जाएंगे। इस सेंसर को आईआईटी मंडी के स्टूडेंटस ने बनाया है और इसका प्रयोग काफी सफल रहा है। साथ ही प्रशासन घटनास्थल के दोनों तरफ रेड लाईट भी लगाएगा ताकि लोग यहां से सावधानी से गुजरें। 
PunjabKesari

उन्होंने माना कि इससे पहले जो निर्णय लिए जा रहे थे वो कार्यालयों में बैठकर ही लिए जा रहे थे। क्योंकि यह हादसा उनके कार्यकाल में नहीं हुआ इसलिए उन्होंने खुद वास्तुस्थिति जानने के लिए मौके पर आना उचित समझा। डीसी ने पाया कि यहां पानी की निकासी के लिए उचित प्रबंध नहीं है। इसलिए विभाग को निर्देश दिए कि यहां और पाईप डाले जाएं ताकि पानी सही ढंग से बाहर निकल सके। वहीं मंडी ने प्रभावित परिवारों से भी मुलाकात की और उनकी समस्याओं को जाना।
PunjabKesari

उन्होंने बताया कि इलाके में वन विभाग की जमीन के सिवाय और कोई जमीन उपलब्ध नहीं है। इसलिए सरकार को स्पेशल केस बनाकर भेजा गया है और उसकी मंजूरी मिलते ही प्रभावितों को जमीन आबंटित कर दी जाएगी। कोटरोपी में भूस्खलन के कारण जो अस्थाई जलाशय बन गए थे उन्हें भी मिट्टी डालकर भर दिया गया है, ताकि बरसात का पानी इसमें न रूके। इसके साथ ही बरसात के समय में यहां बंद पड़ी स्ट्रीट लाईटों को भी फिर से ऑन करने के निर्देश दे दिए गए हैं। डीसी मंडी ने घटनास्थल के पास वाले गांवों को एहतिआत बरतने को कहा है और यह भरोसा दिलाया है कि वे किसी भी समय प्रशासन की मदद ले सकते हैं।
PunjabKesari

× RELATED 23 दिनों के बाद पठानकोट-मंडी NH बहाल, सांसद ने थपथपाई अधिकारियों की पीठ