ब्रैंपटन साउथ से एम.पी.पी. प्रभमीत सिंह सरकारिया के साथ खास बातचीत(Video)

ब्रैंपटन: ओन्टारियो असेंबली चुनाव में प्रोग्रेसिव कंजर्वेटिव पार्टी (पी.सी.) ने प्रधानमंत्री ट्रूडो की लिबरल और जगमीत की एन.डी.पी. को पीछे छोड़ते हुए जीत दर्ज की है। 7 जून को हुए असेंबली चुनाव में 7 पंजाबियों ने बाजी मारी है। इन 7 पंजाबियों में ब्रैंपटन साउथ से प्रभमीत सिंह सरकारिया भी शामिल हैं, जिन्होंने पी.सी. पार्टी की ओर से चुनाव लड़ कर एम.पी.पी. बन पंजाबियों का नाम रोशन किया है। सरकारिया ने पंजाब केसरी के नरेश अरोड़ा और रमनदीप सिंह सोढी के साथ खास मुलाकात की। जिस दौरान सरकारिया ने अपने हलके के साथ जुड़े हर मुद्दे पर बेबाकी के साथ बातचीत की। पेश है उनके साथ हुई बातचीत के मुख्य अंश:-

कभी कनाडा के बैंक में करते थे कार्य, आज ब्रैंपटन वेस्ट से एम.पी.पी.
कनाडा में जन्मे प्रभमीत सिंह सरकारिया ने बताया कि शुरुआत में वह कनाडा के एक बैंक में कार्य करते थे। जिसके बाद वह वकील भी रहे। एम.पी.पी. के कामों बारे बताते हुए उन्होंने कहा कि एक एम.पी.पी. का काम हैल्थ केयर और पढ़ाई की स्पेडिंग, टैक्सों के मुद्दे, सड़कों, इंफ्रास्ट्रक्चर, यूनिवर्सिटियां बनाने बारे वह तथा उनकी टीम विचार कर रही है।

पंजाब की राजनीति बारे कोई खास जानकारी नहीं 
पंजाब की राजनीति में सुधार बारे बात करते हुए उन्होंने कहा कि उनको पंजाब की राजनीति बारे कोई खास जानकारी नहीं, क्योंकि उनका जन्म कनाडा में हुआ और उन्होंने पढ़ाई भी कनाडा में ही पूरी की। 

पहले लिबरल सरकार लोगों को भूली फिर लोग लिबरल सरकार को
एम.पी.पी. बनने से पहले किए वायदों को पूरा करने बारे उन्होंने दावा किया कि हमने पिछले 15 सालों में देखा है कि लिबरल सरकार ही राज कर रही थी परन्तु यह सरकार लोगों को भूल गई थी। लिबरल पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि 7 जून को लोगों ने एक ऐसा फैसला किया जो सरकार लोगों को भूल जाती है और उस सरकार को जनता भी भूल जाती है। 

लोगों की आवाज क्यूनज पार्क तक पहुंचाएंगे
बतौर एम.पी.पी. होने के नाते उन्होंने कहा कि वह सबसे पहले वह बरैंपटन के लोगों की आवाज क्यूनज पार्क तक पहुंचाई जाए स्थानिक लोगों के टैक्स घटाने, हैल्थ केयर में अधिक सहूलतें प्रदान करने और इंफ्रास्ट्रक्चर में काम करना ही पहल होगी।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!
× RELATED PM मोदी का कांग्रेस पर हमला, कहा- हम सुख बांट रहे और वो देश बांट रहे