छात्रों के भविष्य से ऐसे खिलवाड़ कर रहा शिक्षा बोर्ड, जानने के लिए पढ़ें खबर

डरोह: राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय डरोह की छात्रा एडविन 12वीं के मैडीकल परीक्षा परिणाम में प्रदेश स्तर पर तीसरे नंबर पर रही। हालांकि बोर्ड का परीक्षा परिणाम पहले निकल चुका है लेकिन अपनी मेहनत और लग्न पर एडविन को इतना विश्वास था कि उसने अपनी उत्तर पुस्तिकाओं का पुनर्मूल्यांकन करवाया जिसमें उसके 9 अंक बढ़ गए और वह प्रदेश स्तर पर तीसरे स्थान पर आ गई। इसके पहले एडविन किसी भी स्थान पर नहीं थी जिसका दुख उसे अंदर ही अंदर सता रहा था।


परिणाम से संतुष्ट नहीं थी छात्रा
एडविन के पिता विक्रम चंद ने बताया कि एडविन को अपने परीक्षा परिणाम पर विश्वास नहीं हो रहा था। हालांकि उसने 500 में से 478 अंक प्राप्त किए थे किन्तु वह परिणाम से संतुष्ट नहीं थी इसलिए हमने उत्तर पुस्तिकाओं का पुनर्मूल्यांकन करवाया, जिसमें उसके बायोलॉजी में 2 अंक व अंग्रेजी विषय में 7 अंक बढ़े इस तरह 500 में से 487 अंक प्राप्त कर वह प्रदेश में तीसरे स्थान पर आ गई। इससे पहले वह टॉपटैन में भी जगह नहीं बना पाई थी। पुनर्मूल्यांकन का परिणाम देख एडविन की आंखों में खुशी के आंसू आ गए।


बच्चों के भविष्य से खिलवाड़ न करे शिक्षा बोर्ड
एडविन के पिता पेशे से अध्यापक हैं। उन्होंने कहा कि जल्दी परीक्षा परिणाम के चक्कर में बोर्ड इस तरह से पढ़ाई में अव्वल बच्चों के भविष्य के साथ खिलवाड़ न करे इससे बच्चों का मनोबल टूटता है, साथ ही मानसिक तनाव पैदा हो जाता है। एडविन के तीसरे स्थान पर आने से स्कूल के प्रिंसीपल व स्टाफ  ने एडविन और उसके पिता को बधाई दी है।  

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!
× RELATED Rajasthan: जानें- कब से शुरू होंगी 10वीं और 12वीं बोर्ड की परीक्षाएं?