यौन शोषण मामले में एसीएस अधिकारी ने कहा- खराब हुई छवि, करूंगा मानहानि का केस

पंचकूला(उमंग श्योराण): हरियाणा के वरिष्ठ आईएएस अधिकारी सुनील गुलाटी आज पंचकूला के सेक्टर- 4 स्थित हरियाणा महिला आयोग के कार्यालय में अपना पक्ष रखने के लिए पहुंचे। एक सवाल के जवाब पर उन्होंने कहा कि आवश्यक हुआ तो उक्त महिला अधिकारी पर मानहानि का दावा भी कर सकते हैं। उन्होंने अपना पक्ष रखते हुए अपने आप को निर्दोष बताया है। वहीं आयोग की चेयरमैन प्रतिभा सुमन ने कहा कि प्राथमिक तौर पर यह यौन शोषण का नहीं बल्कि मानसिक शोषण का मामला लगता है। वहीं चेयरमैन ने आईएएस अधिकारी को निर्देश भी दिए हैं कि अधिकारी के व्यवहार में कमी पायी गयी है, उन्हें अपनी कार्यप्रणाली को ठीक करें। आयोग की चेयरमैन ने मुख्यसचिव को निर्धारित तिथियों की सीसीटीवी फुटेज भी आयोग को देने के निर्देश दिए हैं।

यौन शोषण मामले में वरिष्ठ आईएएस अधिकारी सुनील गुलाटी बुधवार को हरियाणा महिला आयोग के कार्यालय पहुंचे। महिला आयोग की चेयरमैन प्रतिभा सुमन व उपाध्यक्षा  प्रीती भरद्वाज ने आईएएस अधिकारी सुनील गुलाटी ने बयान दर्ज करवाए। करीब 3 घन्टे तक महिला आयोग के पधादिकारियों में आईएएस अधिकारी गुलाटी से पूछताछ की। आईएएस अधिकारी सुनील गुलाटी ने अपना जवाब लिखित में महिला आयोग को दिया।

आईएएस सुनील गुलाटी ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा पर लगाए गए आरोप निराधार हैं। आयोग के सामने उन्होंने  अपने ऊपर लगे सभी आरोपों के जवाब दिए हैं। उन्होंने कहा कि अपने जवाब के साथ-साथ जो जो भी तथ्य व सबूत थे, वो आयोग में दे दिए हैं।

उन्होंने कहा कि महिला अधिकारी ने जो सुविधाएं मांगी थी, वो एक वरिष्ठ अधिकारी के नाते मुहैया करवाई गयी। उन्होंने कहा कि वह उन्हें जब भी अपने कार्यालय बुलवाते थे, उस समय कोई न कोई कर्मचारी कमरे में मौजूद होता था। फिर यौन शोषण का आरोप तो निराधार है। उन्होंने कहा कि हो सकता है कि अगर आवश्यक हुआ तो वो मानहानि का मामला डाल सकते हैं।

उन्होंने कहा कि उनका  काम था महिला अधिकारी को उनके काम के बारे में समझाना इसलिए मैंने उन्हें समझाया था कि फाइल्स पर सही तरीके से रिपोर्ट करें। उन्होंने कहा कि फेसबुक पर जाकर इस तरह से शिकायत डालना सही नहीं है, इससे पहले अपने उच्च अधिकारियों से अपनी समस्याओं को लेकर बात करनी चाहिए थी। सरकार से गुजारिश की है कि जहां ये काम करना चाहती हैं वहां काम करने दिया जाए।

वहीं इस मामले में महिला आयोग की चेयरपर्सन प्रतिभा सुमन ने कहा कि प्राथमिक तौर पर यह मामला योन शोषण का नहीं है, बलिक इसे मानसिक शोषण कहा जा सकता है।  आयोग ने आरोपी अधिकारी को भी दी नसीहत देते हुए कहा कि अधिकारी अपनी कार्यप्रणाली में सुधार करे। आयोग ने इस मामले में मुख्यसचिव से जुड़े मामले की सीसीटीवी फुटेज भी मांगी है। चेयरमैन ने कहा कि मामले से जुड़े अन्य अधिकारीयों व कर्मचारियों को पूछताछ के लिए बुलाया जाएगा। हरियाणा महिला आयोग ने पशुपालन विभाग के महानिदेशक डॉ जी0 एस0 अधिकारी को भी तलब किया है।

वहीं शिकायतकर्ता महिला आईएएस अधिकारी ने हरियाणा महिला आयोग कार्यालय पहुंचने पर पत्रकारों के सवालों का जवाब देते हुए कहा कि कोई भी अपराधी यह नहीं कहता कि वो अपराधी है, आईएएस अधकारी सुनील गुलाटी झूठ बोल रहे हैं।