वीडियोकॉन का आरोपः PM मोदी की वजह से कर्ज में डूबी कंपनी, कारोबार हुआ ठप

बिजनेस डेस्कः वीडियोकॉन ग्रुप ने अपने ऊपर हुए 39 हजार करोड़ रुपए के कर्ज के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नीति को जिम्मेदार ठहराया है। यहां तक कि पीएम मोदी के अलावा ग्रुप ने देश के सुप्रीम कोर्ट और ब्राजील को भी इसमें घसीटा है।

PunjabKesari 
ब्लूमबर्ग की एक रिपोर्ट के अनुसार, कंज्यूमर अप्लायंसेस मेकर कंपनी वीडियोकॉन ने अपने भारी-भरकम लोन के लिए इन्हें जिम्मेदार ठहराया है। वीडियोकॉन ने अपने ऊपर हुए कर्ज के लिए पीएम मोदी की तरफ से नोटबंदी की घोषणा किए जाने को अहम वजह बताया। 

इस वजह से ठप हुआ कारोबार
वीडियोकॉन की तरफ से कहा गया है कि पीएम मोदी के नोटबंदी के फैसले से कैथोड रे ट्यूब (CRT) टेलीविजन्स बनाने के लिए जो सप्लाई होती थी। वह पूरी तरह से ठप पड़ गई। इस वजह से कंपनी को काफी नुकसान झेलना पड़ा। कंपनी को अपना कारोबार बंद करना पड़ा।

PunjabKesari

बता दें कि नवंबर 2016 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नोटबंदी की घोषणा की थी। इस दौरान 500 और 1000 रुपए के पुराने नोट बंद कर दिए गए थे। नोटबंदी के बाद कई लोगों के कारोबार पर इसका असर देखने को मिला था।

ब्राजील को भी घेरा
ब्राजील को लेकर वीडियोकॉन ने कहा है, ''ब्राजील में इस कंपनी का तेल और गैस का कारोबार लालफीताशाही की वजह से डूबने की कगार पर है।'' सुप्रीम कोर्ट को लेकर ग्रुप ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के लाइसेंस रद्द करने पर टेलीकम्युन‍िकेशंस का कारोबार ठप पड़ा गया। इसका भी नकारात्मक असर ग्रुप की बैलेंसशीट पर देखने को मिला।

PunjabKesari

बता दें कि वीडियोकॉन इंडस्ट्रीज के ख‍िलाफ इस समय दिवालिया कानून के तहत सुनवाई शुरू हो चुकी है। नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (NCLT) ने पिछले हफ्ते ही स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) के नेतृत्व में इस कंपनी के खिलाफ सुनवाई की याचिका स्वीकार की थी।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!
× RELATED पीएसयू को खत्म कर रही है मोदी सरकार: कांग्रेस