कल आएगा हरियाणा बोर्ड की 12वीं कक्षा का परिणाम, रिजल्ट के लिए यहां करें CLICK

फरीदाबाद(महावीर गोयल): हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड का बारहवीं परीक्षा परिणाम 18 मई को घोषित हो सकता है।  रिजल्ट bseh.org.in पर जारी किए जाएंगे। वहीं दसवीं के परीक्षा परिणाम की घोषणा 21 मई तक हो सकती है। विद्यार्थी अपने परिणाम के लिए उक्त वैबसाइट पर ही जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। हरियाणा बोर्ड के दसवीं व बारहवीं कक्षा के परीक्षा परिणाम को लेकर विद्यार्थियों में उत्सुकता बनी हुई है। अपने परिणाम को लेकर जहां कुछ विद्यार्थी उत्साहित हैं तो कुछ तनावग्रस्त हैं।  

इस बार सवा आठ लाख विद्यार्थियों ने दी परीक्षा
पिछले साल हरियाणा बोर्ड बारहवीं परिणाम में 64.5 प्रतिशत छात्र उत्तीर्ण हुए थे। इस बार दसवीं व बारहवीं की परीक्षाओं में लगभग सवा आठ लाख विद्यार्थियों ने परीक्षा दी थी। परीक्षा के लिए प्रदेशभर में 1,758 परीक्षा केंद्र स्थापित किए गए थे। परीक्षा केन्द्रों पर परीक्षाओं के संचालन के लिए 22,815 सुपरवाइजर और 1,758 केंद्र अधीक्षक नियुक्त किए गए थे। वहीं परीक्षा केंद्रों के निरीक्षण के लिए 334 उड़नदस्ते गठित किए गए थे। सबसे अधिक उत्सुकता सरकारी स्कूलों के परीक्षा परिणाम की है। जिले के सरकारी स्कूलों का परीक्षा परिणाम साल दर साल गिरता जा रहा है। हर बाद शिक्षा विभाग सरकारी स्कूलों में गिरते परीक्षा परिणाम को लेकर लापरवाह अध्यापकों पर कार्रवाई करने की बात कहता है परंतु यह केवल बयानों व कागजों तक ही सीमित रह जाता है। ऐसे में इस बार भी शिक्षा विभाग यह आंकलन करेगा कि सरकारी स्कूलों का परीक्षा परिणाम बेहतर होगा या नहीं। यदि परिणाम नहीं हुआ तो इस बार लापरवाह अध्यापकों पर गाज गिर सकती है। 

पिछले वर्ष लड़कियों ने मारी थी बाजी
हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड की बारहवीं कक्षा के परिणाम में पिछले वर्ष लड़कियों ने बाजी मारी थी और लड़कों को एक बार फिर पीछे छोड़ दिया था। गत वर्ष परीक्षा में 64.50 फीसदी विद्यार्थी उत्तीर्ण हुए थे। लड़कियों की उत्तीर्ण होने का प्रतिशत 73.44 और लड़कों के उत्तीर्णता का प्रतिशत 57.58 रहा था। इस बार भी परीक्षा परिणाम घोषित होने पर उम्मीद बंधी है कि लड़कियां ही बाजी मारेंगी। 

परीक्षा केंद्रों पर थी अधिक सख्ती
इस बार बोर्ड की परीक्षाओं में पहले के मुकाबले परीक्षा केंद्रों पर अधिक सख्ती बरती गई थी। हर परीक्षा केन्द्र पर पहले एक सुपरिटेडेंट की नियुक्ति होती थी लेकिन इस बार एक सुपरिटेडेंट के साथ हर केन्द्र पर दो डिप्टी-सुपरिटेडेंट तथा एक ऑबजर्वर की भी नियुक्त किया गया था। हर उड़नदस्ते को निर्देश दिए गए थे कि किसी भी परीक्षा केन्द्र पर दो या उससे अधिक नकल पाने पर परीक्षा केन्द्र को रद्द कर सकता है। परीक्षा के दौरान कोताही बरतने वाले कर्मचारियों पर रूल-8 के तहत कार्रवाई का भी प्रावधान किया गया था। सख्ती का आलम यह था कि बोर्ड ने आदेश दिए थे कि जिस गांव में नकल होगी, उस गांव की पंचायत पर रूल-51 के तहत कार्रवाई की जाएगी। ऐसे में अत्याधिक सख्ती के चलते भी विद्यार्थियों पर परीक्षा को लेकर काफी तनाव था।
 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!
× RELATED फरीदाबाद में 6 साल की बच्ची के साथ दुष्कर्म, वारदात कर अारोपी फरार