8 दिन में होगा सफाई कर्मचारियों की मांगों का समाधान: CM खट्टर

चंडीगढ़(पांडेय):मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा कि विभिन्न कर्मचारी यूनियनों के साथ सफाई कर्मचारियों की कुछ मांगों पर आम सहमति बनी है और पूरी उम्मीद है कि यूनियनें अपनी हड़ताल समाप्त कर देंगी। हमने यूनियनों को आश्वस्त किया है कि 8 दिन के भीतर उनके सभी उचित मामलों का निपटान कर दिया जाएगा। कुछ मांगों पर सरकार और सफाई कर्मचारियों के बीच समझौता पहले ही हो चुका है। उन्होंने अपने फैसले के बारे में राज्य सरकार को सूचित करने के लिए सायं तक का समय मांगा है। उन्हें उम्मीद है कि सफाई कर्मचारी जनहित में अपनी हड़ताल समाप्त कर देंगे।

विशेष भत्ते 300 से बढ़ाकर 1000 रुपए करने का निर्णय
सफाई कर्मचारियों के सफाई विशेष भत्ते को 300 से बढ़ाकर 1000 रुपए करने का भी निर्णय लिया गया है। यह भी निर्णय लिया कि भविष्य में किसी भी शहरी स्थानीय निकाय द्वारा सफाई कर्मचारियों या सीवरेजमैनों की आपूर्ति का कोई नया आऊटसोर्सिंग अनुबंध नहीं किया जाएगा। अब से शहरी स्थानीय निकायों द्वारा कर्मचारियों के व्यक्तिगत खातों में पी.एफ. और ई.एस.आई. सीधे जमा किया जाएगा तथा संबंधित ठेकेदारों द्वारा विभिन्न कर्मचारियों के खातों में पी.एफ. और ई.एस.आई. जमा करने के विवरण न मिलने पर चौकसी जांच करवाई जाएगी। नए सेवा नियमों के अनुसार फायर ऑप्रेटर्स पद के लिए 10+2 की परीक्षा उत्तीर्ण, भारी वाहन चलाने का लाइसैंस और फायर फाइटिंग का बेसिक कोर्स जैसी 3 योग्यताएं होती हैं। 1355 में से 559 व्यक्तियों के पास ये सभी तीनों योग्यताएं हैं और वे फायर ऑपरेटर्स के विज्ञापित 1644 पदों के लिए हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग को आवेदन करने के योग्य हैं। शेष 807 व्यक्ति 3 योग्यताओं में से कम से कम एक आवश्यक योग्यता को पूरा नहीं करते हैं।

समान काम और समान वेतन के लिए कमेटी गठित: कविता
शहरी स्थानीय निकाय मंत्री कविता जैन ने कहा कि मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में कर्मचारी नेताओं के साथ बैठक हुई और भारतीय मजदूर संघ से सम्बद्ध सफाई कर्मचारी यूनियन ने अपनी हड़ताल समाप्त करने पर सहमति व्यक्त की है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने मुख्य सचिव की अध्यक्षता में एक समान कार्य के लिए एक समान वेतन पर कमेटी का गठन करने का निर्णय लिया है। यह कमेटी 31 मई, 2018 से पहले अपनी रिपोर्ट दे देगी।

मंत्री कविता जैन के बयान पर भड़के नेता
कर्मचारी संघ के प्रधान नरेश शास्त्री ने मंत्री कविता जैन के इस बयान पर कड़ी नाराजगी जताई कि भारतीय मजदूर संघ ने बातचीत के बाद हड़ताल वापस ले ली। उन्होंने कहा कि जब बी.एम.एस. हड़ताल में है ही नहीं तो हड़ताल कैसे वापस ले सकती है। मंत्री इस प्रकार के बयान देकर आंदोलन को भड़का रही हैं और पालिका कर्मचारियों को अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाने पर मजबूर कर रही हैं।

× RELATED खट्टर के बाद शर्मा फिर हुए पावर ‘फुल’