मंत्री वीरेंद्र कंवर का ऐलान, ग्रामीण क्षेत्रों में खुलेंगे रोजगार के द्वार

शिमला: ग्रामीण विकास मंत्री वीरेंद्र कंवर की अध्यक्षता में बुधवार को राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन की समीक्षा बैठक आयोजित की। इस अवसर पर कंवर ने कहा कि वर्ष 2018-19 में हिमाचल प्रदेश ग्रामीण आजीविका योजना के लिए 25 करोड़ रुपए की कार्ययोजना का अनुमोदन किया गया है। योजना के तहत प्रशिक्षण के लिए 7.30 करोड़ रुपए परिक्रमा राशि एवं सामुदायिक निवेश पर 11.70 करोड़ रुपए, ब्याज उपदान पर 1 करोड़ तथा विपणन के लिए 5 करोड़ रुपए का प्रावधान किया गया है। इस योजना को प्रदेश के 32 विकास खंडों में आरंभ करने को स्वीकृति प्रदान की गई है। 


उन्होंने कहा कि प्रदेश में आजीविका मिशन को सक्रिय रूप से कार्यान्वित किया जाएगा। इसके तहत प्रदेशभर के स्वयं सहायता समूहों के उत्पादों को विपणन उन्मुख बनाने के लिए प्रेरित व प्रशिक्षित किया जाएगा। उत्पादों की बिक्री के लिए प्रदेशभर में उपयुक्त स्थान चयनित कर विकसित किए जाएंगे। वर्षभर जिलावार राज्य स्तरीय मेलों का भी आयोजन किया जाएगा। मेलों में प्रत्येक जिले के स्वयं सहायता समूहों को न केवल अपने उत्पादों को बेचने का अवसर मिलेगा, बल्कि इन गतिविधियों से आपसी प्रतिस्पर्धा को भी प्रोत्साहन मिलेगा। उन्होंने कहा कि कार्यक्रम के तहत प्रशिक्षण पर विशेष ध्यान दिया जाएगा तथा प्रदेश में ऐसे स्थान चिन्हित किए जाएंगे, जहां प्रशिक्षण के उपरांत रोजगार व स्वरोजगार सुनिश्चित हो सके।

× RELATED PWD की सुस्ती पर केंद्र ने लगाई फटकार