हाईकोर्ट से माफी मांग बैकफुट पर आए IAS अशोक खेमका

चंडीगढ़ (धरणी): हरियाणा के चर्चित आईएएस अधिकारी अशोक खेमका ने पिछली सुनवाई के दौरान सौंपे गए हलफनामे को वापिस ले लिया और अपना जवाब दाखिल करने के लिए समय मांगा। पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट से फटकार के बाद हरियाणा खेल विभाग के प्रधान सचिव अशोक खेमका बैकफुट पर आ गए हैं और बुधवार को हाईकोर्ट में खुद हाजिर होकर माफी मांगी। इसके साथ ही  हरियाणा सरकार भी बुधवार को जवाब दाखिल नहीं कर पाई जिसपर हाईकोर्ट ने दोनों को जवाब दाखिल करने का समय देते हुए सुनवाई स्थगित कर दी।

जगमिंदर सिंह को भारतीय महिला हैंडबॉल टीम के चीफ कोच के तौर पर ज्वाईन करने से रोकने आदेशों पर हाईकोर्ट की रोक हटाने के लिए दाखिल हलफनामा आखिरकार अशोक खेमका ने वापिस ले लिया। पिछली सुनवाई पर उन्होंने हलफनामा दाखिल करते हुए न केवल अपना पक्ष रखा था बल्कि सरकार का पक्ष भी इस हलफनामे में कोर्ट को दिखाई दिया था। इसके बाद हाईकोर्ट ने उनकी जमकर खिंचाई की थी। 

हाईकोर्ट ने कहा था कि एक सरकारी अधिकारी से इस प्रकार के कार्य की अपेक्षा नहीं रखी जाती। कोर्ट ने मुख्य सचिव से भी खेमका के जवाब को लेकर सफाई मांगी थी। हाईकोर्ट द्वारा अपनाए गए रुख के बाद बुधवार जब मामला सुनवाई के लिए हाईकोर्ट के समक्ष पहुंचा तो खेमका खुद कोर्ट में मौजूद रहे। उन्होंने कोर्ट से मांफी मांगते हुए पिछली सुनवाई पर सौंपे गए हलफनामे को वापिस लेने की अपील की।

इस दौरान हरियाणा सरकार की ओर से कहा गया कि मामले से जुड़ा पूरा रिकार्ड चीफ सेक्रेटरी को पहुंचा दिया गया है और ऐसे में वे भी खेमका के हलफनामे को वापिस लेना चाहते हैं। दोनों की अपील पर व खेमका की मांफी के चलते हाईकोर्ट ने हलफनामा वापिस लेने की अनुमति दे दी। साथ ही खेमका व सरकार को अगली सुनवाई पर अपना-अपना पक्ष रखने के आदेश दिए हैं।