ये हैं वो 5 कारण जिनकी वजह से कर्नाटक में बन सकती है BJP की सरकार

नई दिल्ली: कर्नाटक विधानसभा चुनाव में भाजपा के सरकार बनाने मे पेंच फंसता नजर आ रहा है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के जादू के बल पर वह सबसे आगे  है लेकिन उसे स्पष्ट बहुमत नहीं मिला हैै।  चुनाव आयोग नतीजों के अनुसार भाजपा बहुमत के आंकड़े 112 से आठ सीट पीछे है। वहीं कांग्रेस ने भाजपा को रोकने के लिए जनता दल (सेक्यूलर) एच डी कुमारस्वामी को मुख्यमंत्री के लिए समर्थन देने की घोषणा की है, लेकिन बहुमत से कुछ ही सीटें कम जीतने वाली सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी भाजपा अभी भी सरकार बनाने का दावा कर रही है। आईए जानते हैं वो पांच कारण जिनके आधार पर भाजपा सत्ता की कुर्सी पर येदियुरप्पा ही विराजमान करने की योजना बना रही है। 

  • सबसे पहला कारण यह है कि कांग्रेस-जेडी(एस) सरकार बनाने के लिए जरूरी बहुमत 112 विधायकों का समर्थन पत्र नहीं दे सकी, तो भाजपा  की सरकार बननी पक्की है।
  •  दूसरी स्थिति के समय जब विधानसभा में भाजपा को विश्वासमत हासिल करना होगा तब कांग्रेस-जेडी(एस) के 15 विधायक वहां नहीं पहुंच सके तो इस स्थिति में भी भाजपा का फायदा हो सकता है। 
  • कांग्रेस के टिकट पर लिंगायत समुदाय से 21 विधायक और जेडीएस के टिकट पर इस समुदाय के 10 विधायक चुनाव जीते हैं। भाजपा को इसका फायदा मिल सकता है।
  •  भाजपा के 104 विधायक हैं इसलिए ऐसी स्थिति में भाजपा आसानी से बहुमत साबित कर सकती है। 
  • भाजपा को विधानसभा की सबसे बड़ी पार्टी होने के नाते राज्यपाल उन्हें सरकार बनाने का ऑफर पेश कर सकती है और विधानसभा में विश्वास मत हासिल करने के लिए समय दें सकते हैं।
× RELATED मेरे जिंदा रहते कर्नाटक का नहीं होगा बंटवारा: देवगौड़ा