जेट को बचाने के लिए आगे आए बैंककर्मी, कहा- निवेशक ना मिले तो सरकार करे अधिग्रहण

बिजनेस डेस्कः बंदी की कगार पर पहुंच चुकी जेट एयरवेज के 20,000 कर्मचारियों की मदद के लिए बैंककर्मियों का संगठन आगे आया है। इसने सरकार से एयरलाइन का अधिग्रहण करने का आग्रह किया है, ताकि जेट के कर्मचारियों का भविष्य सुरक्षित रहे लेकिन साथ ही यह भी कहा है कि बैंकों पर इस संकटग्रस्त एयरलाइन को कर्ज देने के लिए दबाव नहीं डाला जाना चाहिए।

PunjabKesari

नीलामी सफल न होने पर सरकार से अधिग्रहण की मांग
ऑल इंडिया बैंक एम्पलाइज एसोसिएशन ने इस सिलसिले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा है। इसमें कहा गया है कि बैंकों ने एयरलाइन का इन्वेस्टर तलाशने के लिए नीलामी शुरू की है। अगर नीलामी सफल नहीं होती है तो सरकार को इसका अधिग्रहण करना चाहिए ताकि 20,000 कर्मचारियों की नौकरी सुरक्षित रहे। 

PunjabKesari

एसोसिएशन का कहना है कि एयरलाइन को उबारने के लिए हर व्यक्ति बैंकों की तरफ देख रहा है लेकिन नरेश गोयल अब भी इसके प्रमोटर हैं। उनके पास एयरलाइन की 51 फीसदी हिस्सेदारी है। इसलिए कंपनी चलाना या बेचना उनका सिरदर्द है। बैंकों पर और कर्ज देने के लिए दबाव नहीं बनाया जाना चाहिए। जेट के मैनेजमेंट ने बुधवार को ऑपरेशन अस्थायी तौर पर बंद करने की घोषणा की थी। इससे पहले मंगलवार को बैंकों ने इसे 400 करोड़ रुपए का इमरजेंसी फंड देने से मना कर दिया था। जेट पर बैंकों का पहले से 8,500 करोड़ रुपए का कर्ज है।

PunjabKesari

उड़ानें बंद होने के बाद बैंकों को जेट की नीलामी की चिंता
जेट की उड़ानें बंद होने के बाद अब बैंकों को नीलामी की चिंता सताने लगी है। उन्हें डर है कि नीलामी में ज्यादा बोली न मिले। इसलिए वे जेट के एसेट को सुरक्षित रखने की कोशिश में हैं। वे इसके 16 विमान दूसरी एयरलाइंस को किराए पर देना चाहते हैं। इससे इनका मेंटिनेंस होता रहेगा और आमदनी भी होगी। इसके अलावा वे जेट के एयरपोर्ट स्लॉट सुरक्षित रखने के लिए भी अथॉरिटी से बात कर रहे हैं। जेट के अपने 10 बड़े विमानों में एयर इंडिया और दूसरी एयरलाइंस ने रुचि दिखाई है। बैंकिंग सूत्रों ने बताया कि इनके प्रस्तावों पर विचार किया जा रहा है। 

एयर इंडिया के सीएमडी अश्वनी लोहानी ने दो दिन पहले एसबीआई चेयरमैन रजनीश कुमार को 5 बड़े विमान लीज पर लेने के बारे में लिखा था। एयर इंडिया इन्हें लंदन, दुबई और सिंगापुर रूट पर चलाना चाहती है। जेट के बंद होने के बाद भारतीय एयरलाइंस में सिर्फ एयर इंडिया लंबी दूरी के अंतरराष्ट्रीय रूट्स पर सर्विस दे रही है। इसलिए वह इन जगहों के लिए उड़ानों की संख्या बढ़ाना चाहती है।
 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!