यहां सामाजिक एकता के उद्देश्य से निकाली कार व बाइक रैली

बिलासपुर : संविधान निर्माता बाबा साहब डा. भीम राव अंबेदकर का 128वां जन्मोत्सव दयोली में अंबेदकर सेना मूल निवासी द्वारा मनाया गया। अंबेदकर सेना के प्रदेशाध्यक्ष एच.एस. बंसल ने बताया कि इस कार्यक्रम में शिरकत करने के लिए दूर-दराज क्षेत्रों के लोग स्वेच्छा से दयोली पहुंचे थे। जहां पर डा. साहेब की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया गया। तत्पश्चात सामाजिक एकता के उद्देश्य से कार और बाइक रैली निकाली गई। कार्यक्रम के मुख्यातिथि श्याम लाल कौंडल ने रैली को नीली झंडी दिखाकर रवाना किया।

यह रैली घागस से होते हुए बिलासपुर नगर की परिक्रमा करते हुए वाया कंदरौर फिर अंबेदकर प्रतिमा स्थल पर संपन्न हुई। इसके बाद कार्यक्रम में विशेष अतिथियों द्वारा केक काटा गया। मुख्यातिथि श्याम लाल कौंडल ने बाबा साहब के संघर्षों व उनकी शिक्षाओं के बारे में विस्तार से बताया। कार्यक्रम के विशेष अतिथि मनसा राम ने कहा कि बाबा साहब ने अपना पूरा जीवन दबे-कुचले लोगों के उत्थान की लड़ाई लड़ी तथा संविधान लिखकर देश की तकदीर और तस्वीर को बदल दिया।

वहीं मूल निवासी सेना के प्रदेशाध्यक्ष एच.एस. बंसल ने कहा कि बाबा साहब ने शिक्षा का हथियार देकर इस समाज को ऊपर उठाया तथा सम्मान से जीने का अधिकार दिया। बंसल ने कहा कि नई पीढ़ी को बाबा साहब द्वारा दी गई कुर्बानियों के बारे में ज्ञान नहीं है। महिलाओं को गुलामी की जंजीरों से मुक्त करने में डा. अंबेदकर की भूमिका अहम रही है। इस मौके पर दयोली के उपप्रधान पिस्तु राम, हिमांशु बौद्ध, बाबू राम भाटिया, लक्ष्मण दास, कृष्णु राम भाटिया, विक्रम भाटिया, प्रदीप भवानी, पंकज गौतम, राजेश कुमार, कमल, मदन लाल, नरेंद्र कुमार, नरेश सांख्यान, कुलदीप भवानी, अश्वनी कुमार, विजय कुमार व संदीप बंसल आदि ने भाग लिया।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!