7 वर्षीय बच्ची से 50 साल के बुजुर्ग ने किया दुष्कर्म , गांव में तनाव

मंदसौर: मध्यप्रदेश में नाबालिगों से हो रहे अपराधिक मामले लगातार बढ़ रहे हैं। जिस पर पुलिस प्रशासन शिकंजा कसने में असफल रहा है। ताजा मामला मदारपुरा क्षेत्र का है जहां बुधवार रात सात वर्षीय बालिका को एक 50 वर्षिय बुजुर्ग ने अपनी हवस का शिकार बनाया। इसके बाद गुरुवार दोपहर में युवाओं के एक समूह ने हरिजन बस्ती में पहुंचकर काफी तोड़फोड़ की। इस दौरान सात-आठ चार पहिया वाहनों के कांच तोड़ दिए गए। मौके पर पहुंची पुलिस बल पर भी पथराव किया गया। स्थिति बिगड़ती देख कलेक्टर धनराजू एस व एसपी विवेक अग्रवाल ने भी मौके पर पहुंचकर दोनों पक्षों के लोगों से बात की। अभी भी एहतियात के तौर पर मदारपुरा में पुलिस बल तैनात है।

PunjabKesari


जानकारी के अनुसार बुधवार रात मदारपुरा निवासी एक महिला ने सिटी कोतवाली पहुंचकर शिकायत की। महिला ने पुलिस को बताया कि शाम 7 बजे सात वर्षीय बच्ची खेल रही थी। पड़ोस में रहने वाला कालूराम पिता मांगीलाल उसे घर से उठा कर ले गया। अपने घर ले जाकर उसने बच्ची से ज्यादती का प्रयास किया। बच्ची रोने लगी। आवाज सुनकर महिला कालूराम के घर पहुंची। जहां वह बच्ची को गोद में बिठाकर चुप करा रहा था। वह बच्ची को लेकर घर पहुंची। बच्ची ने पूरी बात अपनी मां को बताई। बच्ची से ज्यादती के मामले में पुलिस ने केस दर्ज कर 50 वर्षीय वयक्ति को गिरफ्तार कर लिया। घटना को लेकर ही गुरुवार को मदारपुरा की हरिजन बस्ती में दो समुदाय के बीच विवाद हो गया। दोपहर करीब एक बजे मदारपुरा की ओर से हाथों में डंडे व अन्य हथियार लिए युवाओं की भीड़ आई। इसमें शामिल लोगों ने हरिजन बस्ती में घरों के बाहर खड़े लगभग सात-आठ चार पहिया वाहनों के कांच तोड़ दिए। घरों व लोगों पर पथराव भी हुआ।

PunjabKesari

एसपी विवेक अग्रवाल, कलेक्टर धनराजू एस, एएसपी मनकामना प्रसाद, एसडीएम अंकिता प्रजापति सहित प्रशासन व पुलिस अधिकारी भी मदारपुरा पहुंचे क्षेत्र में जगह-जगह पुलिस तैनात की गई। घरों के बाहर खड़े वाहनों में तोड़फोड़ से नाराज लोगों ने आक्रोश जताकर आरोपितों को गिरफ्तार करने की मांग की। बाद में पुलिस अधिकारियों की समझाइश पर मामला शांत हुआ। इसके बाद मदारपुरा क्षेत्र को पुलिस छावनी में तब्दील कर दिया गया है।

 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!