See More

दिल्ली में छिपा है हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे? सामने आई पहली तस्वीर

2020-07-08T11:40:50.773

नई दिल्ली: आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के आरोपी हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे को पुलिस को चकमा देकर फरार हो गया। फरीदाबाद के बडख़ल मोड़ स्थित ओयो होटल के सीसीटीवी में कैद संदिग्ध को पुलिस विकास दुबे ही मान रही है। दरसअल राष्ट्रीय राजमार्ग बडख़ल चौक स्थित श्रीसासाराम ओयो गेस्ट हाउस में विकास और उसके गुर्गों के छिपे होने की सूचना मिलने के बाद पुलिस ने वहां घेराबंदी की। अपने साथियों अंकुर और प्रभात को होटल में रुकवाया था। उनसे मिलने विकास होटल गया था। इसी बीच किसी ने पुलिस को सूचना दे दी, लेकिन पुलिस के पहुंचने से पहले ही विकास फरार हो गया। अंकुर और प्रभात को पुलिस ने हिरासत में ले लिया। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक वहां गोली चलने की आवाज भी लोगों ने सुनी। पुलिस ने इस पूरे मामले में फिलहाल चुप्पी साध रखी है। फरीदाबाद पुलिस ने पड़ोसी जिलों को भी विकास दुबे की फुटेज भेज कर सतर्क रहने के आदेश दिए हैं। 

विकास का एक और गुर्गा कानपुर में गिरफ्तार 
वहीं उत्तर प्रदेश में कानपुर के चौबेपुर क्षेत्र में पुलिस ने बुधवार को मोस्टवांटेड अपराधी विकास दुबे के साथी को गिरफ्तार करने का दावा किया है। पुलिस सूत्रों ने बताया कि आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के आरोपी ढाई लाख रूपये के इनामी विकास दुबे के साथी श्यामू बाजपेयी को पुलिस ने आज एक सशस्त्र मुठभेड़ के बाद धर दबोचा। गिरफ्तार अपराधी पर पुलिस टीम पर हमला करने का आरोप है। पुलिस ने उसकी गिरफ्तारी पर 25 हजार रूपये का इनाम घोषित किया है। उन्होने बताया कि शातिर विकास का पड़ोसी श्यामू का हालांकि कोई आपराधिक इतिहास नहीं है और न ही इस वारदात से पहले उसके खिलाफ कोई मुकदमा दर्ज हुआ है। आज तड़के ही पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स ने विकास के एक अन्य गुर्गे अमर दुबे को हमीरपुर के मौदहा में एक मुठभेड़ के दौरान मार गिराया था। विकास की सरगर्मी से तलाश कर रही पुलिस की 40 टीमें पुलिस टीम पर हमले के आरोपियों को एक एक कर दबोचने में लगी है। इससे पहले वारदात के कुछ ही घंटों के भीतर पुलिस ने विकास के दो रिश्तेदारों को मार गिराया था वहीं इस मामले में यह पांचवीं गिरफ्तारी है। 

हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे पर ढाई लाख रुपये का इनाम
हत्या के आरोपी हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे पर अब पुलिस ने ढाई लाख रुपये का इनाम घोषित किया है। इसके अलावा पूरे प्रदेश के टोल नाकों पर उसके पोस्टर भी लगाने को कहा गया है । मामले में अब तक चार पुलिसकर्मी निलंबित किए जा चुके है । सोमवार को तीन और पुलिस कर्मी निलंबित किए गए। शनिवार को चौबेपुर थानाध्यक्ष को भी निलंबित कर दिया गया था। पहले दुबे पर पचास हजार रुपये का इनाम था जिसे बाद में बढ़ाकर एक लाख रुपये किया गया और आज इसे बढ़ाकर ढाई लाख रुपये कर दिया गया। दुबे को ढूंढऩे के लिए 40 थानों की पुलिस की 25 टीमों ने दिन-रात एक कर दिया है । इसके अलावा उप्र एसटीएफ भी अपना काम कर रही है । कानपुर में चौबेपुर के बिकरू में हुई घटना के चार दिन बाद भी पुलिस को दुबे के बारे में कोई जानकारी नहीं मिल पायी है । 


Edited By

Anil dev

Related News