12 साल के बच्‍चे ने ‘निकाह’ पढ़ाकर बनाया अनोखा रिकॉर्ड, सोशल मीडिया में जमकर हो रही है चर्चा

2020-01-14T11:25:26.05

लखनऊ: उत्‍तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में हैरान कर देने वाला मामला देखने को मिला जहां बारह साल के अब्दुल हई राशिद फिरंगीमहल एक दंपत्ति के निकाह में काजी की भूमिका बनाकर संभवत: दुनिया के सबसे कम उम्र के ‘काजी’ बन गए हैं। अब्दुल हई सुन्नी सुन्नी विद्वान मौलाना खालिद राशिद फिरंगी महल के बेटे हैं। 


पांचवी कक्षा के छात्र हैं अब्दुल
अब्दुल हई लखनऊ के लामाटीनियर कालेज में अभी पांचवी कक्षा के छात्र हैं। शनिवार को उन्होंने कामिल उमर जिलानी तथा अलीना मिर्जा का निकाह संपन्न कराया। निकाह के मौके पर मेहमानों के सामने कुरान की आय तों को पढ़कर अब्दुल हई ने सभी को चकित कर दिया। इस मौके पर उनके पिता भी मौजूद थे। खालिद राशिद फिरंगी महल बताते हैं, ‘उन्होंने पहली बार निकाह कराने का काम 20 साल की उम्र में किया था। लेकिन हमारे बेटे ने पारिवारिक काम को सिर्फ 12 साल की उम्र में संपन्न कराकर एक रिकार्ड बनाया है।’
 

कनाडा में भी एक निकाह संपन्न करा चुके है अब्दुल 
अब्दुल हई इससे पहले कनाडा में भी एक निकाह संपन्न करा चुके हैं। वे कहते हैं कि मैं इस्लामिक स्टडीज में डाक्टरेट की शिक्षा हासिल करना चाहता हूं। इसके साथ ही मैं गरीबों के लिए काम करना चाहता हूं। मैं चाहता हूं कि सभी लोग शिक्षित हों। अब्दुल हई ने बताया कि भारत में मैने पहली बार निकाह संपन्न कराया है। अब्दुल हई के पिता खालिद राशिद के अनुसार, वह पढऩे में काफी तेज है तथा उसे कुरान की आयतें जबानी याद हैं। निकाह संपन्न होने के बाद दूल्हा तथा दुल्हन के घर वाले भी कम उम्र के अब्दुल हई के जानकारी से प्रभावित थे। उन्होंने पूरा निकाह समारोह विधि विधान से संपन्न कराया। दूल्हे के अनुसार युवा काजी से निकाह कराने का प्रस्ताव उनका ही था।


Edited By

Anil dev

Related News