केंद्रीय मंत्री ने किसानों को कहा 'मवाली', सोशल मीडिया पर ट्रेंड करने लगा मीनाक्षी लेखी माफी मांगों

2021-07-23T12:53:48.877

नेशनल डेस्क: केंद्रीय मंत्री और भाजपा नेता मीनाक्षी लेखी ने गुरुवार को तीन कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसान संगठनों की आलोचना करते हुए उन्हें ‘‘मवाली'' करार दिया। लेखी ने यह टिप्पणी किसानों के प्रदर्शन के दौरान हुई कथित हिंसा के बारे में पूछे गए सवाल पर की। लेखी की इस टिप्पणी पर बवाल खड़ा हो गया और सोशल मीडया पर भी माफी मांगों लेखी ट्रेंड करने लगा। हालांकि टिप्पणी पर विवाद खड़ा होने के बाद लेखी ने ट्वीट किया कि उनकी बात को ‘‘तोड़-मरोड़कर'' पेश किया गया है और यदि कोई आहत हुआ है तो वह अपने शब्द वापस लेती हैं।

PunjabKesari

भाजपा मुख्यालय में प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान एक पत्रकार ने जब ‘किसानों' का संदर्भ दिया, जिन्होंने जंतर-मंतर पर प्रदर्शन को कवर करने के दौरान कथित तौर पर कैमरामैन पर हमला किया तो लेखी ने कहा कि आप उन्हें किसान कहना बंद करें, वे किसान नहीं हैं। वे कुछ साजिशकर्ताओं के हाथों में खेल रहे हैं।

PunjabKesari

किसानों के पास जंतर-मंतर पर बैठने का समय नहीं है। वे खेतों में काम कर रहे हैं। उनके (प्रदर्शनकारियों के) पीछे बिचौलिये हैं, जो नहीं चाहते कि किसानों को लाभ मिले।

PunjabKesari

उन्होंने 26 जनवरी को प्रदर्शन के दौरान हुई हिंसा का हवाला देते हुए कहा कि वे प्रदर्शनकारी, किसान नहीं थे। एक प्रमुख हिंदी चैनल के कैमरामैन पर हमले और 26 जनवरी की हिंसा के सवाल पर लेखी ने कहा कि आप ने फिर उन्हें किसान कहा। वे मवाली हैं। लेखी ने कहा कि ऐसे हमले आपराधिक घटनाएं हैं, जिनपर संज्ञान लिया जाना चाहिए।

PunjabKesari


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Seema Sharma

Recommended News