'अग्निपथ' योजना के स्पोर्ट में उतरी ये इंडस्ट्री, 1 लाख अग्निवीरों को नौकरी देना का किया ऐलान

punjabkesari.in Thursday, Jun 23, 2022 - 03:02 PM (IST)

नेशनल डेस्क: केंद्र सरकार द्धारा सेना में भर्ती के लिए लाई गई 'अग्निपथ योजना' को देश भर में कड़े विरोध का सामना करना पड़ रहा है। इसी बीच देश की प्लास्टिक इंडस्ट्री ने 'अग्निवीरों' के लिए एक लाख नौकरियां देने का ऐलान किया है। प्लास्टिक इंडस्ट्रीज के संगठन प्लास्टइंडिया फाउंडेशन ने केंद्र सरकार की 'अग्निपथ योजना' का समर्थन किया है। इससे पहले रिलायंस इंडस्ट्रीज, टाटा समूह, महिंद्रा समूह, आरपीजी एंटरप्राइजेज  बायोकॉन, और अपोलो हॉस्पिटल ग्रुप जैसे कॉरपोरेट घराने भी 'अग्निपथ योजना' का समर्थन कर चुके हैं। 

1 लाख अग्निवीरों को प्लास्टिक इंडस्ट्री में नौकरी
संगठन ने कहा कि सेना में 4 साल की सेवा देने वाले 'अग्निवीरों' में से करीब एक लाख लोगों को अकेले प्लास्टिक इंडस्ट्री नौकरी दे सकता है। प्लास्टइंडिया फाउंडेशन के अध्यक्ष जिगीश दोशी ने कहा, 'अभी प्लास्टिक इंडस्ट्री में 50 हजार से ज्यादा प्रोसेसिंग यूनिट हैं। बीते तीन दशकों से उत्पादन और उपभोग कई गुणा बढ़ा है। इसके साथ ही प्लास्टिक इंडस्ट्री तेजी से आगे बढ़ रहा है। ऐसे में इस इंडस्ट्री को बड़े स्तर पर युवाओं व बेहतर कामगारों की जरूरत है। हमें यह ऐलान करते हुए खुशी हो रही है कि हम 1 लाख 'अग्निवीरों' को प्लास्टिक इंडस्ट्री में नौकरी दे सकते हैं। 

'अग्निपथ योजना' पर देश भर में मचा है बवाल
बतातें चलें कि रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने 14 जून को सेना में भर्ती की नई योजना 'अग्निपथ' का ऐलान किया था। इसके तहत भारतीय सेना में चार साल के लिए युवाओं को भर्ती किया जाएगा। सरकार के ऐलान के बाद इस योजना का पूरे देश में जम कर विरोध किया गया। बाद में केंद्र सरकार ने आयु सीमा का बढ़ाकर 23 वर्ष कर दिया। इसके अलावा, गृह मंत्रालय और रक्षा मंत्रालय में नौकरियों के लिए 'अग्निवीरों' को 10 फीसदी आरक्षण देने का ऐलान किया गया। 

27 जून को सभी विधानसभा क्षेत्रों में ‘सत्याग्रह' करेगी कांग्रेस
कांग्रेस ‘अग्निपथ' योजना को वापस लेने की मांग करते हुए आगामी 27 जून को देश के हर विधानसभा क्षेत्र में ‘सत्याग्रह' करेगी। पार्टी के संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल ने बुधवार को कहा, ‘‘सोनिया गांधी जी और राहुल गांधी जी ने स्पष्ट रूप से कहा है कि युवाओं के इस सबसे बड़े मुद्दे पर ध्यान केंद्रित किया जाए। हमारे नेताओं ने कुछ दिन पहले ‘अग्निपथ' के खिलाफ प्रदर्शन भी किया और सांसदों ने मार्च निकाला था।'' उन्होंने बताया, ‘‘ अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी ने फैसला किया है कि इस महीने की 27 तारीख को पूरे देश में प्रदर्शन होगा। 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Editor

rajesh kumar

Related News

Recommended News