2000 रुपए के नोटों की संख्या में आई भारी गिरावट, सरकार ने संसद में बताई यह वजह

punjabkesari.in Wednesday, Dec 08, 2021 - 10:13 AM (IST)

नेशनल डेस्क: इस साल नवंबर में बाजार प्रचलन वाले 2,000 रुपए के नोटों की संख्या घटकर 223.3 करोड़ नोट या कुल नोटों (NIC) का 1.75 प्रतिशत रह गई, जबकि यह संख्या मार्च 2018 में 336.3 करोड़ थी। वित्त मंत्रालय में राज्य मंत्री पंकज चौधरी ने राज्यसभा में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में कहा कि विशेष मूल्यवर्ग के बैंक नोटों की छपाई का निर्णय सरकार द्वारा रिजर्व बैंक के परामर्श से जनता की लेनदेन संबंधी मांग को सुविधाजनक बनाने के लिए वांछित मूल्यवर्ग के नोटों की उपलब्धता को बनाए रखने के लिए किया जाता है। उन्होंने कहा कि 31 मार्च, 2018 को 2,000 रुपए मूल्यवर्ग के 336.3 करोड़ नोट (MPC) परिचालन में थे जो मात्रा और मूल्य के मामले में NIC का क्रमशः 3.27 प्रतिशत और 37.26 प्रतिशत है।

 

इसके मुकाबले 26 नवंबर, 2021 को 2,233 एमपीसी प्रचालन में थे, जो मात्रा और मूल्य के संदर्भ में NIC का क्रमश: 1.75 प्रतिशत और 15.11 प्रतिशत है। चौधरी ने आगे कहा कि साल 2018-19 से नोट के लिए करेंसी प्रिंटिंग प्रेस के पास कोई नया मांगपत्र नहीं रखा गया है। उन्होंने कहा कि नोटबंदी के बाद जारी किए गए 2,000 रुपए के नोट के प्रचलन में कमी इसलिए है क्योंकि साल 2018-19 से इन नोटों की छपाई के लिए कोई नया मांगपत्र नहीं रखा गया है। इसके अलावा, नोट भी खराब हो जाते हैं क्योंकि वे गंदे / कटे-फटे हो जाते हैं।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Seema Sharma

Related News

Recommended News