शिक्षा मंत्रालय का बड़ा फैसला, इस बोर्ड को मिली वर्ष 2022-23 के लिये जेईई मेन और एडवांस परीक्षा की जिम्मेदारी

punjabkesari.in Monday, May 09, 2022 - 05:19 PM (IST)

नेशनल डेस्क: शिक्षा मंत्रालय ने वर्ष 2022 और 2023 में आईआईटी, एनआईटी, अन्य केंद्र पोषित इंजीनियरिंग संस्थानों में दाखिले के लिये होने वाली संयुक्त प्रवेश परीक्षा (जेईई) मेन एवं एडवांस परीक्षा के आयोजन के लिये नये 19 सदस्यीय जेईई शीर्ष बोर्ड (जेएबी) का गठन किया है। मंत्रालय से जारी एक अधिसूचना के अनुसार, ‘‘वर्ष 2022 और 2023 में जेईई मेन एवं एडवांस परीक्षा के सुचारू रूप से संचालन के लिये जेईई शीर्ष बोर्ड के पुनर्गठन का फैसला किया गया है।''

इसके अध्यक्ष आईआईटी मद्रास के पूर्व निदेशक प्रोफेसर भास्कर राममूर्ति होंगे। इसके सदस्यों में आईआईटी खड़गपुर, आईआईटी बॉम्बे, आईआईटी गुवाहाटी, आईआईटी जयपुर, आईआईटी राउरकेला, आईआईटी बेंगलूर, आईआईटी नागपुर तथा आईआईटीडीएम कर्नूल के निदेशक शामिल होंगे । बोर्ड के अन्य सदस्यों में कर्नाटक, गुजरात, बिहार एवं हरियाणा राज्य के प्रतिनिधि, एसआरएम इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी के प्रतिनिधि, सीबीएसई के अध्यक्ष, एनआईसी के महानिदेशक, सी-डीएसी के महानिदेशक, शिक्षा मंत्रालय में अतिरिक्त सचिव/संयुक्त सचिव और राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी के महानिदेशक शामिल होंगे।

अधिसूचना के अनुसार, जेईई शीर्ष बोर्ड (जेएबी) का एक स्थायी सचिवालय होगा जो राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी द्वारा उपलब्ध कराया जायेगा। जेईई मेन परीक्षा के आयोजन के संदर्भ में नीतियां तथा नियम तय करने के लिये जेएबी अंतिम प्राधिकार होगा जो, जेईई एडवांस ग्रुप एवं उसके अध्यक्ष के साथ भी समन्वय करेगा। शिक्षा मंत्रालय ने जेईई मेन और जेईई एडवांस की व्यवस्था को और अधिक पारदर्शी एवं बेहतर बनाने के लिये जेएबी का गठन किया है जो पूर्व में काम कर रहे बोर्ड का स्थान लेगा। पिछले बोर्ड का कार्यकाल 31 मार्च 2022 को समाप्त हो गया था । गौरतलब है कि जेईई मेन परीक्षा का पहला चरण 20 जून से आयोजित होना है।

 

 

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Editor

rajesh kumar

Related News

Recommended News