लाल किला हिंसा: दिल्ली पुलिस की चार्जशीट में बड़ा खुलासा, किले पर कब्जा करना चाहते थे किसान

punjabkesari.in Thursday, May 27, 2021 - 12:10 PM (IST)

नेशनल डेस्क: दिल्ली में गणतंत्र दिवस पर किसानों की ट्रैक्टर रैली के दौरान लाल किले पर हुई हिंसा को लेकर दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने कुछ दिन पहले तीस हजारी कोर्ट में चार्जशीट दायर की थी। पुलिस ने 3,224 पेज की अपनी चार्जशीट में बड़ा खुलासा करते हुए कहा कि लाल किले पर हुई हिंसा को अचानक नहीं कहा जा सकता क्योंकि यह पूर्व नियोजित थी। इसके लेकर पहले से ही प्लान बनाया गया था। वहीं दिल्ली पुलिस ने चार्जशीट में बताया कि किसान लाल किले को अपना नया प्रोटेस्ट साइट बनाना चाहते थे। दिल्ली पुलिस की इस चार्जशीट पर कोर्ट शुक्रवार (28 मई) को सुनवाई शुरू कर सकता है।

PunjabKesari

दिल्ली पुलिस ने दावा किया कि लाल किले पर हुई हिंसा सोची-समझी साजिश थी और इसके लिए पहले से ही सारी तैयारियां की गई थीं। किसान पहले से ही उस रास्ते पर गए ताकि वहां पर बवाल मचा सकें, उनका मकसद लाल किले पर अपना कब्जा करना था और वहां धरना देकर वो लोग कृषि कानून के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करना चाहते थे। पुलिस ने दावा किया कि जानबूझ कर बुजुर्ग किसानों को भीड़ में शामिल किया गया ताकि पुलिस कड़ी कार्रवाई न कर सके और लाल किले पर कब्जा करना आसान हो जाए। पुलिस ने कह कि किसानों ने घंटों तक लाल किले को बंधक बनाए रखा। 

PunjabKesari

तिरंगा उतारने पर मोटी रकम मिलने का था दावा
दिल्ली पुलिस ने चार्जशीट में बताया कि लाल किले की प्राचीर पर लगे तिरंगे को उतारकर वहां निशान साहब और किसान झंडा फहराने वाले आरोपियों को मोटी रकम भी देने का वादा किया गया था। दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार एक आरोपी की बेटी के इंटरस्पेट कॉल को भी चार्जशीट में शामिल किया है, आरोपी की बेटी बोल रही है कि ऐसा करने पर पापा को 50 लाख मिलने वाले हैं।

PunjabKesari

चार्जशीट के मुताबिक लाल किला हिंसा की साजिश नवंबर-दिसंबर 2020 में रची गई थी और इसके लिए बड़े पैमाने पर पंजाब और हरियाणा में ट्रैक्टर खरीदे गए थे। दिल्ली पुलिस ने पंजाब में बाकायदा ट्रैक्टर की बढ़ती खरीद फरोख्त के डेटा को भी चार्जशीट का हिस्सा बनाया है। बता दें कि 26 जनवरी को किसानों ने दिल्ली के कई इलाकों में काफी हंगामा और तोड़फोड़ की थी। खास कर लाल किले को किसानों ने काफी नुकसान पहुंचाया था। दुनियाभर में इस हिंसा की चर्चा हुई थी।
PunjabKesari


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Seema Sharma

Related News

Recommended News