कारगिल विजय दिवस पर द्रास नहीं जा पाएंगे राष्ट्रपति, खराब मौसम के चलते कार्यक्रम रद्द

2021-07-26T09:28:06.56

नेशनल डेस्क: राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का द्रास जाने का कार्यक्रम रद्द हो गया है। उन्होंने तोलोलिंग पहाड़ी की तलहटी में स्थापित युद्ध स्मारक पर शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित करने जाना था, लेकिन खराब मौसम के चलते उनका यह  कार्यक्रम रद्द कर दिया गया। यह कार्यक्रम 22वें कारगिल विजय दिवस के मौके पर आयोजित किया गया था।

पीएम मोदी ने भारतीय खिलाड़ियों का बढ़ाया मनोबल, कहा- विश्व कैडेट चैंपयिनशिप में आपका रहा धमाल
 

रगिल विजय दिवस के मौके पर रविवार को तोलोलिंग, टाइगर हिल और अन्य शानदार लड़ाइयों को याद किया गया और लद्दाख के द्रास इलाके में स्थापित कारगिल युद्ध स्मारक पर 559 दीप जलाए गए। इस मौके पर शीर्ष सैन्य अधिकारी, सैन्य कर्मियों के परिवार के सदस्य और अन्य लोग मौजूद रहे। 

सावन के पहले सोमवार महाकालेश्वर मंदिर में हुई 'भस्म आरती', देखें अद्भुत नजारा(Video)

ऑपरेशन विजय के दौरान कई प्रेरणादायक कहानियों को याद करने के लिए विशेष कार्यक्रम सेना ने द्रास के नजदीक लोमोचेन में रविवार सुबह आयोजित किया था जिसमें कारगिल युद्ध के कई वीरता पुरस्कार प्राप्त सैनिकों और उनके परिजनों सहित बड़ी संख्या में सैनिकों ने हिस्सा लिया। इस दौरान तोलोलिंग, टाइगर हिल, प्वाइंट 4875 और अन्य प्रमुख लड़ाई और भारतीय सेना के सैनिकों की बहादुरी का वर्णन इन स्थानों की पृष्ठभूमि में श्रोताओं के सामने किया गया और बाद में उन्हें स्मारक पथ पर ले जाया गया।

100% क्षमता के साथ आज से दौड़ेगी दिल्ली मेट्रो, खड़े होकर सफर करना होगा बैन
 

 समापन समारोह सैन्य धुन के साथ हुआ। कार्यक्रम में मौजूद लोगों ने मौन रहकर शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की गई। कैप्टन विक्रम बत्रा की जिंदगी पर बन रही फिल्म ‘शेरशाह’ का ट्रेलर भी जारी किया गया जिसका निर्माण धर्मा प्रोडक्शन कर रहा है। इस मौके पर ‘मा तेरी कसम गाना’ भी रिलीज किया गया जिसकी परिकल्पना उत्तरी कमान ने की है। गौरतलब है कि कैप्टन बत्रा ने वर्ष 1999 में कारगिल युद्ध के दौरान पाकिस्तान से लड़ते हुए मात्र 24 साल की उम्र में शहादत दी थी और उन्हें मरणोपरांत युद्धकाल के सर्वोच्च वीरता पुरस्कार परमवीर चक्र से सम्मानित किया गया था।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

vasudha

Recommended News