राष्ट्रपति कोविंद का बड़ा बयान, पॉक्सो एक्ट में दया याचिका का प्रावधान हो खत्म

2019-12-06T18:03:20.703

नेशनल डेस्कः राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने महिला सुरक्षा पर गंभीर चिंता जताते हुए कहा है कि पोक्सो एक्ट के तहत दुष्कर्म के आरोपियों को दया याचिका से वंचित कर देना चाहिए। कोविंद आज आबू रोड़ में ब्रह्मा कुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय संस्थान में महिला सशक्तीकरण द्वारा सामाजिक परिवर्तन विषय पर आयोजित सम्मेलन में बोलते हुए यह बात कही।
PunjabKesari
राष्ट्रपति ने कहा कि बेटियों पर होने वाले आसुरी प्रहार पूरे देश की अंतरात्मा को झकझोर कर रख देती है। इस तरह का संविधान में एक कानून है जिस पर पुनर्विचार होना चाहिए। पोक्सो एक्ट के तहत आरोपियों को दया याचिका से वंचित कर देना चाहिए। उन्होंने कहा कि यह काम संसद का है। उन्होंने महिला शिक्षा स्तर पर चिंता जाहिर करते हुए कहा कि आज भी साक्षरता दर कम है, लेकिन बेटियों की शिक्षा के लिए काम हो रहा है।
PunjabKesari
राजस्थान के बांसवाड़ा जैसे आदिवासी जिले में लिंगानुपात में हर एक हजार बेटों पर 1003 बेटियां पैदा होने की बात से गर्व होता है। उन्होंने जनधन योजना के तहत 52 प्रतिशत महिलाओं के खाते खुलने पर हर्ष व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि इस बार संसद में 78 महिलाएं सांसद का होना गर्व की बात है। कोविंद ने कहा कि महिलाओं की सुरक्षा की जिम्मेदारी पूरे समाज की है। 
PunjabKesari
गौरतलब है कि कोविंद का यह बयान ऐसे समय आया है जब हैदराबाद में एक पशु चिकित्सक की दुष्कर्म के बाद जला कर मार डालने और उन्नाव में बलात्कार पीड़तिा को दिन दिहाड़े जलाने की घटना से देश में रोष का माहौल बना हुआ है।

 


Yaspal

Related News