बढ़ते कोरोना संकट के बीच सभी राज्यों के गवर्नर से संवाद करेंगे पीएम मोदी, नायडू भी होंगे शामिल

2021-04-14T08:57:31.957

नेशनल डेस्क:  उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी बुधवार को कोविड-19 से उपजी मौजूदा परिस्थितियों के मद्देनजर विभिन्न राज्यों के राज्यपालों से संवाद करेंगे।  देश में बढ़ते कोरोना संक्रमण के मद्देनजर इस प्रकार की यह पहली बैठक हो रही है, जिसमें प्रधानमंत्री मोदी और उपराष्ट्रपति, राज्यपालों से संवाद करेंगे। सूत्रों के मुताबिक, इस संवाद के दौरान कोरोना से बचाव संबंधी उपायों का जनता द्वारा पालन करना प्रमुख मुद्दा रहेगा।

PunjabKesari
लोगों की लापरवाही और प्रशासन की सुस्ती के कारण बढ़ रहे मामले
प्रधानमंत्री ने पिछले दिनों मुख्यमंत्रियों के साथ संवाद किया था और उस दौरान कहा था कि लोगों की लापरवाही और प्रशासन की सुस्ती के कारण कोरोना के ताजे मामलों में वृद्धि हुई है। उन्होंने लोगों के बीच बचाव संबंधी जागरूकता फैलाने और पात्र लोगों को टीका लगवाने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए राज्यपालों और समाज की विभिन्न हस्तियों को शामिल करने का आह्वान किया था। पीएम ने कहा था कि हमें लोगों को ये बार-बार बताना होगा कि टीका लगने के बाद भी मास्क और अन्‍य जो उपाय हैं उसका पालन अनिवार्य है। लोगों में मास्क और सावधानी को लेकर जो लापरवाही आई है, उसके लिए फिर से जागरूकता जरूरी है।

PunjabKesari

प्रधानमंत्री ने मुख्यमंत्रियों के साथ की थी बैठक
मोदी ने कहा था कि जागरूकता के इस अभियान में हमें एक बार फिर समाज के प्रभावी व्यक्तियों, सामाजिक संगठनों, हस्तियों को अपने साथ जोड़ना होगा। इस संवाद के दौरान ही प्रधानमंत्री ने मुख्यमंत्रियों से इस काम में राज्यपालों का भरपूर उपयोग करने का आग्रह किया था और सर्वदलीय बैठक बुलाकर आगे की रणनीति पर काम करने का सुझाव दिया था। उन्होंने कहा था कि मेरा आग्रह है कि गवर्नर साहब और मुख्‍यमंत्री मिल कर जितने भी चुने हुए प्रतिनिधि हैं उनसे डिजीटल माध्यम से संवाद करें।

PunjabKesari

राष्ट्रपति ने पिछले साल राज्यपालों से किया था संवाद
प्रधानमंत्री ने कहा कि इस प्रकार के प्रयासों से समाज में सकारात्मक संदेश जाएगा। उन्होंने कहा था कि मैं समझता हूं कि गवर्नर के माध्‍यम से इस प्रकार के लगातार भिन्‍न-भिन्‍न समाजों के लोगों को जोड़ने का एक आंदोलन चलाया जाए और इसके माध्यम से बचाव संबंधी उपायों का पालन करने के लिए लोगों को प्रोत्साहित किया जाए। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने पिछले साल मार्च के महीने में राज्यपालों से संवाद किया था जब कोरोना संक्रमण के मामले देश में फैलने लगे थे।

 


Content Writer

vasudha

सबसे ज्यादा पढ़े गए

Recommended News

static