नागरिकता विधेयक को लेकर परेशान होने की जरुरत नहीं: रिजिजू

2019-12-07T00:52:41.523

शिलांग: केन्द्रीय खेल मंत्री किरेन रिजिजू ने शुक्रवार को कहा कि नागरिकता संशोधन विधेयक,2019 को लेकर पूर्वोत्तर के मूल निवासियों को किसी प्रकार से डरने की जरुरत नहीं है क्योंकि केन्द्र सरकार ने उनकी प्रमुख चिंताओं को ध्यान में रखा है। रिजिजू का यह बयान विधेयक के विरोध खासकर, मेघालय सरकार की ओर से इसका विरोध करने के निर्णय के बीच आया है। उन्होंने पत्रकारों से कहा, ‘केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने पूर्वोत्तर के बहुत से समूहों से मिलकर उनके विचारों को जाना है और पूर्वोत्तर के लोगों की प्रमुख चिंताओं और समस्याओं पर ध्यान दिया जा रहा है। चर्चा के लिए जब विधेयक संसद में लाया जाएगा तब पता चल जाएगा कि इसमें पूर्वोत्तर के लोगों को पूरा संरक्षण दिया गया है और केन्द्र सरकार की ओर से उन्हें सभी सहयोग दिए गए हैं। इसलिए,पूर्वोत्तर के मूल निवासियों को घबराने एवं चिंतित होने की जरुरत नहीं है।' 

अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री पेमा खांडू ने कहा है उन्हें ऐसा नहीं लगता कि इस विधेयक से उनके राज्य को कोई परेशानी होगी क्योंकि यह बंगाल ईस्टर्न फ्रोंटिनर अधिनियम,1873 और चीन हिल अधिनियम के तहत संरक्षित है। शाह ने आश्वासन दिया है कि विधेयक का मसौदा बनाने के समय अरुणाचल प्रदेश और पूर्वोत्तर को ध्यान में रखा जाएगा। त्रिपुरा के मुख्यमंत्री विप्लव देव ने कहा है कि संशोधन विधेयक कोई बहुत बड़ा बदलाव नहीं है बल्कि यह देश के नागरिकों की सुरक्षा के लिए है। प्रत्येक नागरिकों की भलाई और सुरक्षा के बारे में सोचने का काम सभी देशों का कर्तव्य है।


shukdev

Related News