नित्यानंद आश्रम विवाद- दिल्ली पब्लिक स्कूल के प्रधानाध्यापक समेत दो और गिरफ्तार

11/21/2019 8:40:35 PM

अहमदाबादः विवादास्पद धर्मगुरू स्वामी नित्यानंद के यहां स्थित आश्रम और इसकी ओर से संचालित स्कूल में कथित तौर पर दो नाबालिग बच्चों को जबरन रखने और उनसे दुर्व्यवहार करने के मामले में पुलिस ने आश्रम की स्थानीय संचालिका समेत दो युवा साध्वियों पकड़ने के एक दिन बाद आज इस प्रकरण में यहां दिल्ली पब्लिक स्कूल (डीपीएस) के प्रधानाध्यापक हितेश पुरी समेत दो अन्य लोगों को भी गिरफ्तार कर लिया। 

मामले की जांच कर रहे डीएसपी के टी कामरिया ने बताया कि डीपीएस स्कूल से जुड़े ट्रस्ट कैलोरेक्स एज्युकेशन ने आश्रम के स्कूल को अपनी जमीन बिना पुलिस को जानकारी दिये लीज पर दे दी थी। इस मामले में ही पुरी को और इसी तरह पुष्प सिटी में आश्रम की महिलाओं और अन्य को रहने के लिए बिना पुलिस को इत्तिला के मकान देने के चलते उसके मैनेजर बकुल ठक्कर को भी पकड़ा गया है। दोनों के खिलाफ जिला कलेक्टर के संबंधित सार्वजनिक आदेश के उल्लंघन के लिए गुजरात पुलिस अधिनियम की धारा 131 और भारतीय दंड संहिता की धारा 188 के तहत मामला दर्ज किया गया है।
PunjabKesari
गुरुवार को पुलिस ने दोनों गिरफ्तार महिलाओं को लेकर आश्रम और पुष्प सिटी के आवास की जांच भी की और कई लैपटॉप और मोबाइल फोन भी जब्त किये। जांच के दौरान अगर नित्यानंद के खिलाफ ठोस सबूत मिले तो उसकी भी धरपकड़ की जायेगी। पुलिस शिकायतकर्ता की दो बालिग बेटियों, जो वीडियो संदेश जारी कर आश्रम के साथ स्वेच्छा से जुड़ी रहने का दावा कर रही हैं, पर प्रत्यक्ष रूप से सामने नहीं आ रहीं, का पता नहीं लगा पायी है क्योंकि वीडियो कॉल के लिए वे प्रॉक्सी नेटवकर् का उपयोग कर रही हैं। आश्रम से मिले दो अन्य बच्चों ने कोई आरोप नहीं लगाया है पर वे अपने माता पिता के पास जाने की रट लगा रहे हैं।

आश्रम संचालिका प्राणप्रिया तथा उनकी सहयोगी प्रियातत्वा को अपहरण, बच्चों को जबरन रोक कर रखने आदि तथा उनसे श्रम कराने के आरोप में पकड़ा गया था जिसके बाद कल ही यहां की एक अदालत ने आगे की जांच के लिए उन्हें पांच दिन की पुलिस रिमांड पर सौंप दिया था। बता दें कि नित्यानंद के तमिलनाडु निवासी पूर्व अनुयायी जनार्दन शर्मा ने गत एक नवंबर को पुलिस के समक्ष आरोप लगाया था कि यहां हाथीजन इलाके में दिल्ली पब्लिक स्कूल की जमीन पर बने इस आश्रम और स्कूल में उनके चार में से तीन बच्चों को जबरन रखा गया है। इसके बाद पुलिस ने 14 साल की उनकी एक बेटी और 12 साल के बेटे को वहां से मुक्त कराया और हाल में इस मामले में आपराधिक मुकदमा दर्ज कराया गया था। आश्रम के लोगों पर उनसे दुर्व्यवहार करने और जबरन रोक कर रखने का आरोप लगाया गया है। इसी मामले में आश्रम से कल दोनो साध्वियों की गिरफ्तारी की गयी थी। 
PunjabKesari
शिकायतकर्ता की सबसे बड़ी बेटी लोपा मुद्रा बेंगलुरू आश्रम से दो साल पहले ही विदेश चली गयी थी और दूसरी बेटी 19 वर्षीय नित्यानंदिता यहां के आश्रम से अब लापता है। दोनों ने खुद के बालिग होने का हवाला देते हुए कई वीडियो जारी कर अपने ही पिता और माता पर कई तरह के गंभीर आरोप लगाये थे और उनके पास नहीं आने की बात कही थी। इन दोनों को अदालत के समक्ष पेश करने की मांग को लेकर शर्मा की ओर से दायर बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका पर गुजरात हाईकोर्ट ने कल राज्य पुलिस प्रमुख और आश्रम को नोटिस जारी किया तथा मामले की अगली सुनवाई की तिथि 26 नवंबर तय की। उधर डीपीएस स्कूल ने आश्रम को पांच साल के लिए लीज पर दी गयी जमीन के करार को कल रद्द करने की घोषणा की।

गिरफ्तार किये गये प्रधानाध्यापक हितेश पुरी ने कल कहा था कि शैक्षणिक कार्य के लिए गत जून से यह जमीन दी गयी थी पर मौजूदा परिस्थितियों की जानकारी होने पर इसे रद्द कर दिया गया है। उधर कलेक्टर विक्रांत पांडेय ने बताया कि इस मामले की जांच की जा रही है। इस बीच सीबीएसई के सचिव ने इस मामले में संज्ञान लेते हुए जांच रिपोटर् भेजने के निर्देश दिये हैं। सीबीएसई ने एक बयान में कहा है कि यहां हीरानगर स्थित स्कूल ने उससे बिना अनुमति के नित्यानंद के आश्रम स्कूल को लीज पर जमीन दे दी थी। सीबीएसई ने स्कूल को राज्य की ओर से दिये गये अनापत्ति प्रमाण पत्र की प्रस्थिति यानी स्टेटस के बारे में भी जानकारी मांगी है।

 


Yaspal

Related News