See More

गया में नया ''दशरथ मांझी'', 30 साल में बना दी 3 किलोमीटर लंबी नहर !

2020-09-13T19:14:07.653

नेशनल डेस्कः अब तक आपने इंसानों की कई ऐसी कहानियां सुनी होंगी, जिसमें रेगिस्तानी इलाके में खेती करना, पहाड़ काटकर रास्ता बना लेना और इस तरह के असंभव से दिखने वाले काम करके इन लोगों ने अपना नाम इतिहास के पन्नों में दर्ज करा लिया है। पहाड़ का सीना फाड़कर रास्ता बनाने वाले बिहार के गया के रहने वाले दरशरथ मांझी पर तो बाकायदा एक फिल्म बन चुकी है। बिहार के गया जिले के लुंगी भुईयां ने भी ऐसी ही कामयाबी की इबारत लिखी है।
PunjabKesari
गया शहर से 90 किलोमीटर दूर बांकेबाजार प्रखण्ड के लुटुआ पंचायत के कोठिलवा गांव के लुंगी भुइयां ने 30 सालों में अकेले पहाड़ से जमीन तक तीन किलोमीटर लंबी नहर बना दी है। इलाके में पानी के आभव की वजह से लोग केवल मक्का और चने की खेती करते थे। खेती का साधन नहीं होने की वजह से गांव के सभी नौजवान अच्छी नौकरी की तलाश में गांव से पलायन कर चुके थे।
PunjabKesari
बिहार के गया के रहने वाले लुंगी भुइयां की कड़ी मेहनत से बनाई इस नहर से लोगों को खेती करने में ज्यादा समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा, उनके खेतों को भरपूर पानी मिल सकेगा। उनके परिवार के लोगों ने बताया कि लुंगी भुइयां रोज घर से निकलकर जंगल पहुंच जाया करते थे और अकेले नहर बनाया करते थे। बिना मजदूरी के काम करते थे, जिसके लिए परिवार के लोग उन्हें यह सब करने से मना भी करते थे।

भुइयां ने कहा, "एक दिन में बकरी चरा रहा था, तभी सोचा कि अगर गांव में पानी आ जाए तो पलायन रुक सकता है। लोग खेतों में फसल उगा सकेंगे। आज नहर के साथ गांव में एक तालाब बनकर तैयार है। इससे इलाके के 3 गांव के 3,000 लोग फायदा ले रहे हैं।
PunjabKesari
बंगेठा पहाड़ पर वर्षा का जल रुक जाता था. भुइयां ने पूरा जंगल घूम कर पहाड़ पर ठहरे पानी को अपने गांव तक लाने के लिए एक नक्शा तैयार किया। नक्शे के अनुसार वह 30 साल तक नहर बनाते रहे। इसके बाद 5 फीट चौड़ी और तीन फीट गहरी नहर बनकर तैयार हो गई। उन्होंने कहा कि सरकार अगर मुझे ट्रैक्टर दे देती मैं वन विभाग के बंजर पड़े जमीन को खेती लायक उपजाऊ बनाकर लोगों का भरण पोषण कर सकता हूं।


Yaspal

Related News