2008 में 70 मिनट में 21 धमाकों से दहल गया था अहमदाबाद, इतिहास में पहली बार 38 दोषियों को फांसी की सजा

punjabkesari.in Friday, Feb 18, 2022 - 03:47 PM (IST)

नेशनल डेस्क: गुजरात के अहमदाबाद शहर में 26 जुलाई 2008 को हुए शृंखलाबद्ध आतंकी बम धमाकों के मामले में एक विशेष अदालत ने इतिहास में पहली बार आज इसके 49 आरोपियों में से 38 को फांसी और शेष 11 को उम्रक़ैद (मरने तक जेल में रहने) की सज़ा सुनाई। गुजरात स्थित अहमदाबाद 14 साल पहले 2008 में हुए दहल गया था. 70 मिनट में 21  सीरियल बम ब्लास्ट हुए और 56 लोगों की मौत हो गई वहीं 200 से अधिक लोग घायल हुए थे।



विशेष जज ए आर पटेल की अदालत ने गत आठ फ़रवरी को इस मामले के कुल 79 में 49 आरोपियों को दोषी क़रार दिया था और अन्य 28 को बरी कर दिया था। एक अन्य की सुनवाई के दौरान मौत हो चुकी है। अदालत ने आज इस मामले में सज़ा सुनने के दौरान 49 दोषसिद्ध आरोपियों में से 48 पर दो लाख 85 हज़ार रुपए (प्रत्येक) का जुर्माना भी लगाया।  

PunjabKesari

अदालत ने इस घटना के सभी 56 मृतकों के लिए एक-एक लाख रुपए, 240 घायलों में से गम्भीर के लिए 50-50 हज़ार और हल्के के लिए 25-25 हज़ार के मुआवज़े का भी प्रावधान किया। ज्ञातव्य है कि यहां सिविल अस्पताल और एलजी अस्पताल समेत 23 भीड़ भाड़ वाले स्थानों पर उस दिन शाम साढ़े छह बजे से पौने आठ बजे के बीच धमाके हुए थे जिनमे 56 लोगों की मौत हुई थी और 240 लोग घायल हुए थे। इसके बाद उसी साल 28 से 31 जुलाई के बीच सूरत शहर से 29 वैसे ही बम बरामद हुए थे जैसे अहमदाबाद के धमाकों में इस्तेमाल किए गए थे। 

गुजरात पुलिस की जांच के बाद इस मामले में 15 अगस्त 2008 को पहले 11 लोगों को पकड़ा गया। बाद में अन्य अभियुक्तों की भी गिरफ़्तारी हुई थी। जांच के दौरान पता लगा कि इन धमाकों के पीछे पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आइएसआइ, अंडरवर्ल्ड और प्रतिबंधित संगठन सिमी से परिवर्तित हुए इंडियन मुजाहिदीन और अन्य आतंकी संगठनों का हाथ था। इन लोगों ने कथित तौर पर 2002 के गुजरात दंगों का बदला लेने के लिए इस घटना को अंजाम दिया था। जांच में यह भी पता चला था कि इस घटना के लिए मई में अहमदाबाद के निकट वटवा इलाक़े में षड्यंत्र रचा गया था।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Anil dev

Related News

Recommended News