पश्चिम यूपी में जाति के आधार पर तेजी से बदल रहे हैं राजनीतिक समीकरण

10/27/2021 12:51:12 PM

नेशनल डेस्क; उत्तर प्रदेश में महत्वपूर्ण विधानसभा चुनाव से तीन महीने पहले राज्य के पश्चिमी हिस्से में जातिगत लड़ाई तेज हो गई है। मतदाताओं ने बड़े पैमाने पर उन मुद्दों की पहचान की है जो वर्तमान परिदृश्य में उनके जाति समूहों के साथ मेल खाते हैं। पश्चिम यूपी के 14 जिलों की 71 विधानसभा सीटों में से भाजपा ने 2017 में 51 सीटें जीती थीं। राष्ट्रीय लोकदल (रालोद) के अकेले विधायक सहेंद्र रमाला के भाजपा में शामिल होने के बाद यह संख्या 52 हो गई है। समाजवादी पार्टी ने 16, कांग्रेस ने दो और बसपा ने एक सीट जीती थी। 2017 में पश्चिम यूपी ने भाजपा को जोरदार जीत दर्ज करने और सरकार बनाने के लिए एक पैटर्न सैट किया था, लेकिन ऐसा लगता है कि इस बार लड़ाई जातियां तय करेगी।

कुछ इलाकों में किसान आंदोलन का प्रभाव
सिवलखास विधानसभा क्षेत्र के दबथुवा गांव का ही मामला लें तो यहां 23 अक्टूबर को गांव ने 25 अक्टूबर को रालोद नेता जयंत चौधरी की रैली के लिए समर्थन जुटाने के लिए एक पंचायत का आयोजन किया। एक ग्रामीण ने बताया कि कि हमने यह सोचकर भाजपा को वोट दिया कि यह किसानों के लिए अच्छा करेगी, लेकिन हमारे लोग दिल्ली सीमा पर कृषि कानूनों का विरोध करने बैठे हैं और सरकार नहीं सुन रही है। युवा और बूढ़ों के एक समूह ने भी महंगाई का मुद्दा उठाया और दावा किया कि इस बार वे भाजपा को हराने के लिए रालोद को वोट देंगे। मीडिया रिपोर्ट कहती है कि 2018 के अंत में दबथुवा का दौरा किया था, तो ग्रामीणों ने आवारा मवेशियों के खतरे के बारे में शिकायत की थी और भाजपा के खिलाफ मतदान करने का दावा किया था। गांव के एक युवा ने कहा कि  पुलवामा ने उस समय सब कुछ बदल दिया था, लेकिन अब हम हार नहीं मानने वाले हैं। यू.पी. में 13 जाट विधायक हैं, जिनमें से सभी भाजपा से हैं, जो इस समुदाय पर पार्टी के अब तक के गढ़ को दर्शाता है।

कहीं कृषि कानूनों से भी अनजान हैं किसान
दिलचस्प बात यह है कि सड़क के दूसरी तरफ गुर्जर बहुल बुबकापुर गांव है। यहां किसान आंदोलन नहीं है। यह जयंत चौधरी को कुछ स्टैंड देने के लिए जाटों का आंदोलन है। भाजपा का कहना है कि असली मुद्दा कानून और व्यवस्था है, और लोग शांति से रह रहे हैं। भाजपा फिर से राज्य में सरकार बनाएगी। त्रिकोण को पूरा करने के लिए मेरठ करनाल रोड पर बुबकापुर के बगल में इकरी गांव है, जिसमें त्यागियों का वर्चस्व है। तीन छात्रों मुकुल त्यागी, रवींद्र कश्यप और दीपक शर्मा कहते हैं कि ज्यादातर ग्रामीण कृषि कानूनों से अनजान हैं, और उन्हें लगता है कि यह किसानों के बजाय विपक्षी दलों का आंदोलन है। ऐसा ही नजारा शामली विधानसभा सीट के सिंभालका और थाना भवन विधानसभा सीट के सिलावर जैसे जाट बहुल गांवों में देखने को मिल रहा है। सिलावर गांव के नोमित तरार (32) और राहुल तरार (28) क्रमशः दिल्ली पुलिस और भारतीय वायु सेना में कार्यरत भाई हैं। उन्होंने कहा कि उन्होंने पिछली बार पुणे से भाजपा को वोट भेजने के लिए पोस्टल बैलेट चुना था। इस बार मेरा वोट उस पार्टी को होगा जो किसानों के साथ है।

पश्चिम यूपी में 29 फीसदी मुस्लिम वोटों पर नजर
सिलावर के बगल में कश्यप बहुल सिक्का गांव है। यहां के लोग कहते हैं कि कोई दूसरा विचार नहीं है। यहां से भाजपा की जीत होगी।लोग कहते हैं कि हमें मुफ्त राशन मिल रहा है और योगी सरकार के तहत शांतिपूर्ण जीवन जी रहे हैं। मूल्य वृद्धि हमें परेशान कर रही है लेकिन अपराध शून्य है। सिक्का के 4,500 मतदाताओं में से 3,500 कश्यप समुदाय के हैं। विपक्ष मुख्य रूप से सपा और रालोद संयुक्त रूप से जाट-मुस्लिम संयोजन पर भरोसा कर रहे हैं जो लगभग 25 विधानसभा सीटों पर निर्णायक कारक बन जाता है। जाटों का कुल वोटों का 7 फीसदी हिस्सा है और अगर वे पश्चिम यूपी में 29 फीसदी मुस्लिम वोटों में शामिल हो जाते हैं, तो गठबंधन चुनावी गतिशीलता को प्रभावित कर सकता है। हालांकि यह फॉर्मूला 2019 के लोकसभा चुनावों के दौरान काम नहीं आया क्योंकि जाट भाजपा के साथ गए थे।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Anil dev

Related News

Recommended News