साल 2030 में आगरा से दिल्ली तक हर घंटे 300 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चलेगी एक बुलेट ट्रेन

punjabkesari.in Wednesday, Nov 24, 2021 - 11:12 AM (IST)

नेशनल डेस्क: विस्तृत परियोजना रिपोर्ट (डीपीआर) के अनुसार दिल्ली-वाराणसी हाई स्पीड रेल (एचएसआर) या बुलेट ट्रेन परियोजना 958 किमी लंबी होगी। जिसमें लखनऊ को अयोध्या से जोड़ने वाली 123 किमी की दूरी शामिल है। अगर सब कुछ सरकारी योजना के अनुसार हुआ तो 2029-30 तक दिल्ली से आगरा और आगरा से दिल्ली तक हर घंटे 300 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चलने वाली एक बुलेट ट्रेन होगी। कॉरिडोर सुरक्षा आवश्यकता को देखते हुए पूरा कॉरिडोर एलिवेटेड स्ट्रेच और सुरंगों का मिश्रण होगा। इसमें 12 स्टेशन होंगे और यह मथुरा, अयोध्या, प्रयागराज और वाराणसी सहित सभी प्रमुख धार्मिक स्थलों को जोड़ेगा। जेवर हवाई अड्डे पर एक भूमिगत स्टेशन भी होगा। कुल परियोजना लागत 2.28 लाख करोड़ रुपये अनुमानित है और विशाल परियोजना के निष्पादन के लिए वित्त प्राप्त करना महत्वपूर्ण होगा।

दिल्ली और आगरा तक एक दिन में 63 चक्कर लगाएगी बुलेट ट्रेन
नेशनल हाई स्पीड रेल कॉर्पोरेशन लिमिटेड द्वारा तैयार डीपीआर के अनुसार जो अहमदाबाद-मुंबई बुलेट ट्रेन परियोजना को लागू कर रहा है, बुलेट ट्रेन दिल्ली और आगरा के बीच एक दिन में 63 चक्कर लगाएगी। दिल्ली और लखनऊ के बीच प्रतिदिन 43 ट्रिप और दिल्ली और वाराणसी के बीच रोजाना 18 ट्रिप होंगे। अयोध्या के मामले में डीपीआर ने प्रति दिन 11 ट्रिप का अनुमान लगाया है। फिलहाल ट्रेन से दिल्ली से वाराणसी पहुंचने में करीब 11-12 घंटे लगते हैं। प्रस्तावित बुलेट ट्रेन इस यात्रा के समय को तीन घंटे तक कम कर देगी। पूर्वी उत्तर प्रदेश के दिल वाराणसी के लिए हाई स्पीड रेल कनेक्टिविटी महत्वपूर्ण है, क्योंकि मौजूदा शासन विश्व स्तरीय बुनियादी ढांचे का निर्माण करके पूर्वांचल की प्रोफाइल को बदलने पर ध्यान केंद्रित कर रहा है। यह कदम इसलिए भी महत्वपूर्ण है क्योंकि सरकार अयोध्या को विश्व पर्यटन मानचित्र पर लाने के लिए प्रयास कर रही है और उच्च गति कनेक्टिविटी पर्यटकों को पवित्र शहर में लाने के लिए उत्प्रेरक होगी।
 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Anil dev

Related News

Recommended News