बंद हो सकती हैं दिल्ली-मुंबई की फ्लाइट और ट्रेन सेवाएं, उद्धव सरकार ने दी हरी झंडी

2020-11-20T16:44:42.747

नेशनल डेस्क: राजधानी दिल्ली में कोविड-19 के बढ़ते मामलों का असर अब दिल्ली-मुंबई विमान और ट्रेन सेवाओं पर भी पड़ता हुआ दिखाई दे रहा है। देश की राजधानी दिल्ली में कोरोना वायरस  के मामलों में रिकॉर्ड बढ़ोतरी हो रही है। ऐसे में घबराई महाराष्ट्र सरकार दिल्ली और मुंबई के बीच विमान और ट्रेन सेवा बंद करने पर विचार करने लगी है। महाराष्ट्र सरकार इस विषय में जल्द ही बड़ा फैसला ले सकती है। हालांकि, महाराष्ट्र सरकार की तरफ से इस बारे में किसी तरह का कोई आधिकारिक तौर पर ऐलान नहीं किया गया है लेकिन मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक राज्य सरकार इस बारे मे जल्द फैसला ले सकती है।  

PunjabKesari

मुंबई में हुई मीटिंग में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने इस प्रस्ताव को हरी झंडी दे दी है। अब तमाम एजेंसियों ने बात करके इस पर फैसला लेने के बाद आदेश जारी किया जाएगा। दरअसल, दिल्ली में बढ़ते मामलों को देखते हुए महाराष्ट्र सरकार चिंतित हो गई है और अपने राज्य में फिर से कड़ाई करना चाहती है। अपने राज्य में कोरोना का असर कम करने या कोरोना के प्रसार को रोकने की दिशा में महाराष्ट्र एहतियाती कदम उठा रही है।   

PunjabKesari

आपको बतां दे कि दिल्ली में कोविड-19 के 7546 नए मामले आने से संक्रमितों की संख्या 5.1 लाख से अधिक हो गयी जबकि 98 और मरीजों की मौत हो जाने से मृतकों की संख्या 8041 हो गयी। दिल्ली के स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी बुलेटिन के मुताबिक पिछले दिन आरटी-पीसीआर से 22,067 जांच समेत कुल 62,437 जांच की गयी। बुलेटिन में कहा गया कि शहर में त्योहार के मौसम और बढ़ते प्रदूषण के बीच संक्रमण दर 12.09 प्रतिशत है । दिल्ली में 11 नवंबर को संक्रमण के सबसे ज्यादा 8593 मामले आए थे और 85 मरीजों की मौत हो गयी थी। शहर में संक्रमण से 98 और लोगों की मौत हो जाने से मृतकों की संख्या 8,000 से ज्यादा हो गयी। वर्तमान में 43,221 मरीजों का उपचार चल रहा है । बुलेटिन में कहा गया कि संक्रमितों की कुल संख्या 5,10,630 हो गयी है । 

PunjabKesari

कोविड-19 के मामलों में बढ़ोतरी के बीच दिल्ली में घर-घर जाकर सर्वेक्षण का अभियान शुरू
राष्ट्रीय राजधानी में कोरोना वायरस के मामलों में बढ़ोतरी के बीच शहर में घनी आबादी वाले इलाकों और निषिद्ध क्षेत्रों में कोविड-19 के लक्षण वाले लोगों की पहचान और जांच के लिए घर-घर जाकर सर्वेक्षण करने का अभियान शुक्रवार को शुरू किया गया । अधिकारियों ने बताया कि पांच दिन में यह सर्वेक्षण पूरा हो जाएगा और सर्वेक्षण के तहत निषिद्ध क्षेत्रों, घनी आबादी वाले इलाकों और संक्रमण के ज्यादा मामले वाले क्षेत्रों के 57 लाख से ज्यादा लोगों के स्वास्थ्य की स्थिति की निगरानी की जाएगी। दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने संवाददाताओं को बताया कि सर्वेक्षण का मकसद निषिद्ध क्षेत्रों और सघन इलाके में लक्षण वाले लोगों की पहचान करना और उनकी जांच करना है। जिला अधिकारियों ने बताया कि सभी निषिद्ध क्षेत्रों और संक्रमण के ज्यादा मामले वाले इलाकों में शिक्षक, नगर निगम के कर्मचारी, आशा कार्यकर्ता और नागरिक रक्षा कार्यकर्ताओं की टीमों को इसमें शामिल किया गया है । एक जिलाधिकारी ने बताया, ‘‘लक्षण वाले सभी लोगों की जांच के लिए तमाम नियमों का पालन किया जाएगा। पांच दिनों में सर्वेक्षण पूरा हो जाएगा।'' दिल्ली में वर्तमान में 4500 से ज्यादा निषिद्ध क्षेत्र हैं। घर-घर जाकर सर्वेक्षण के लिए करीब 9500 निगरानी टीमें बनायी गयी हैं। हर टीम को रोजाना 50 घरों का सर्वेक्षण करने का लक्ष्य दिया गया है। 


Edited By

Anil dev

Related News