'मोदी मैजिक' ने तोड़ा तेजस्वी का सपना, ये रहे NDA की जीत के 5 बड़े कारण

11/11/2020 11:02:06 AM

नेशनल डेस्क: बिहार विधानसभा चुनाव की मंगलवार को हुई मतगणना में अमरीकी राष्ट्रपति के चुनाव की तरह जबर्दस्त सस्पेंस देखने को मिला। दिन भर चली मतगणना में आंकड़े ऊपर नीचे होते रहे। देर रात तक जाकर दलीय स्थिति साफ हो पाई और एनडीए ने धीरे धीरे बहुमत के लिए जरूरी 122 का आंकड़ा पार कर लिया। बिहार विधान सभा चुनाव के नतीजों के बाद एनडीए 125 सीटों पर जीत के साथ पूर्ण बहुमत हासिल करने में कामयाब रही, जबकि महागठबंधन 110 सीट ही जीत पाई। एनडीए की जीत के सबसे बड़े नायक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बने और मोदी मैजिक ने तेजस्वी यादव के मुख्यमंत्री बनने का सपना तोड़ दिया। आईए जानते हैं एनडीए की जीत के 5 बड़े कारण। 

PunjabKesari

एनडीए को मिली जीत के पीछे महिला फैक्टर 
बिहार में एनडीए को मिली जीत के पीछे सबसे बड़े कारण महिला फैक्टर बताया जा रहा है। चुनावी विश्लेषकों की मानें तो बिहार की महिलाओं ने लालू प्रसाद यादव के शासनकाल में रेप, लूट, मार और गुंडागर्दी का दौर झेला है। माना जा रहा है कि इस बार बिहार चुनाव में महिलाओं ने सुरक्षा के मुद्दे पर एनडीए को चुना है। इसके साथ दूसरा बड़ा कारण बिहार में सीएम नीतीश यादव द्वारा की गई शराबबंदी भी रहा। महिलाओं ने शराबबंदी के नाम पर भी जेडीयू और एनडीए को बढ़ चढ़कर वोट किया है।

PunjabKesari

तेजस्वी 10 लाख नौकरी देने का खोखला दावा
बिहार चुनावों के दौरान राष्ट्रीय जनता दल के नेता तेजस्वी यादव ने कहा कि था कि सत्ता मिलने पर आरजेडी सरकार पहली ही कैबिनेट में युवाओं को 10 लाख नौकरी देगी। इसके साथ ही बिहारी युवाओं के लिए सरकारी नौकरी में आरक्षण की व्यवस्था भी की जाएगी। तेजस्वी का घोषणा पर पलटवार करते हुए नीतीश कुमार ने कहा था कि तेजस्वी 10 लाख नौकरी देने का दावा कर रह रहे हैं, लेकिन वह इतना बजट कहां से लाएंगे। अगर तेजस्वी बिहार का बजट और मौजूदा स्थिति को देखें तो उन्हे दाल-आटे के भाव का पता लग जाएगा। 10 लाख नौकरियां हवा में नहीं दी जाती।  नीतीश कुमार के बयान के बाद युवाओं को तेजस्वी के वादा झूठा लगा जिसका सीधा फायदा एनडीए को मिला। 

PunjabKesari

लोगों का भरोसा जीतने में कामयाब रही भाजपा
एनडीए को बिहार चुनाव में जेडीयू से भी अधिक सीटें मिलने का कारण भाजपा की घोषणाओं और वादों पर भरोसा दिलाना भी कहा जा सकता है। इसकी एक बड़ी वजह यह भी है कि जम्मू-कश्मीर में आर्टिकल 370 हटाना हो या फिर सीएए भाजपा ने अपने घोषणापत्रों में शामिल अधिकांश वादों को पूरा किया है। ऐसे में भाजपा ने लोगों को नौकरी देने की बजाए रोजगार देने का वादा किया था, जिसमें युवाओं को सच्चाई दिखी। राजनीतिक जानकारों की मानें तो भाजपा बिहार में लोगों का विश्वास जीतने में सफल रही। 

PunjabKesari

मोदी ने एनडीए की ओर से संभाला मोर्चा 
नीतीश कुमार के प्रति जनता में गुस्सा था, लेकिन जब बिहार में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एनडीए की ओर से मोर्चा संभाला तो हवा का रुख बदलना शुरू हुआ। पीएम मोदी ने करीब एक दर्जन सभाएं की, कई रैलियों में वो नीतीश कुमार के साथ भी नजर आए। पीएम ने लगातार नीतीश की तारीफ की, लोगों से अपील करते हुए कहा कि उन्हें नीतीश सरकार की जरूरत है। इसके अलावा केंद्र की योजनाओं का गुणगान हो, राष्ट्रीय मुद्दों को लेकर विपक्ष पर वार करना हो या फिर राजद के जंगलराज का जिक्र कर तेजस्वी पर निशाना साधना हो, पीएम मोदी ने अकेले दम पर एनडीए के प्रचार को आगे बढ़ाया। जिसका परिणाम आज सबके सामने आए है। 

PunjabKesari

चुनाव में तेजस्वी के खिलाफ जंगलराज के युवराज का नारा
बिहार चुनाव प्रचार के दौरान बीजेपी और जेडीयू ने अपने 15 वर्षों के शासन की तुलना लालू-राबड़ी के 15 वर्षों के शासन से की और उसके बाद वोट देने की अपील की। इसके साथ ही, लोगों में यह भय पैदा किया गया कि अगर उन्होंने लालू यादव के बेटे तेजस्वी के नाम पर वोट किया तो बिहार की 15 साल पहले जैसी ही स्थिति हो जाएगी। इस चुनाव में तेजस्वी के खिलाफ नारा दिया गया- जंगल राज का युवराज।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Anil dev

Recommended News