कश्मीर के सेब उत्पादकों के लिएए मसीहा बनकर उभरे मोदी

2020-08-06T20:01:55.587

श्रीनगर: 2015 में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जम्मू कश्मीर के लिए जो राहत पैकेज की घोषणा की थी उससे स्थिति अब बेहतर है। पैकेज के अंतर्गत बागवानी विभाग ने केन्द्र प्रशासित प्रदेश  के अंनतनाग जिले में सेब उत्पादन की क्षमता को बढ़ावा देने के लिए बाग के बगीचे स्थापित किये जिससे सेब उत्पादकों को काफी सहयाता मिल रही है। उन्हें नेट, बोरवेल और अन्य सुविधाएं भी सबसिडी पर मुहैया हो रही हैं। इन बागों में जो पौधे लगाए गए हैं वो बेहत्तर गुणवता वाले हैं और इनकी उत्पादन क्षमता पारंपरिक पौधो से अधिक है।PunjabKesari

 

 


योजना के तहत सरकार ने उच्च घन्तव वाले पौधों को लगाने के साथ ही उन पेड़ों को भी हटाने का काम किया था, जिनकी उम्र हो गई है और जो अब फल नहीं दे रहे थे। इसके लिए किसानों को पचास प्रतिशत सबसिडी पर पौधे मुहैया करवाए गए। सिर्फ यही नहीं बल्कि बागवानी विभाग किसानों को इसके लिए आवश्यक वैज्ञानिक जानकारी भी देता है। अनंतनाग के बागवानी अधिकारी आसिफ हुसैन बोधा ने बताया , हमने यहां पर बाग लगाया है। यह जमीन बंजर थी। एक दिन मैं जा रहा था तो सेब उत्पादक शकील मुझसे मिला। मैने उसे प्रोजेक्ट के बारे में बताया तो वो भी राजी हो गया। उन्होेंने कहा, पारंपरिक पेड़े एक हैक्टर में 11 से 12 एमटी की फसल देते हैं जबकि हमारा लक्ष्य 30 एमटी का है और हमे लगता है कि हम सहीर दिशा में जा रहे हैं।

PunjabKesari


उन्होंने बताया कि यह योजना प्र्रधानमंत्री की योजनाओं के तहत आती है। इसमें 90 प्रतिशत तक सबसिडी दी जाती है। यह परियोजना काफी कारगार साबित हो रही है। वहीं शकील ने बताया कि बागवानी विभाग ने मुझे यह आडिया दिया। मुझे सबसिडी भी मिल रही है। मुझे रोज गाइड भी किया जाता है। उसने कहा, मैने 2018 में पेड़ लगाए थे और पिछले वर्ष अगस्त में काफी अच्छी फसल मिली थी। मैं किसान भाईयों से इसका लाभ लेने को कहुंगा।
 
 


Monika Jamwal

Related News