अमरनाथ यात्रा की सुरक्षा में तैनात किए गए 200 से ज्यादा  हाईटेक बुलेटप्रूफ वाहन

punjabkesari.in Saturday, Jul 02, 2022 - 04:15 PM (IST)

इंटरनेशनल डेस्कः कोरोना महामारी के चलते अमरनाथ यात्रा 2 साल के अंतराल के बाद गुरुवार को फिर से शुरू हुई। तीर्थयात्रियों ने  'बम बम भोले' और 'हर हर महादेव' के जयकारों के बीच बाबा बर्फानी के दर्शन करने के लिए हिमालय की चोटियों के बीच स्थित अमरनाथ गुफा की कठिन यात्रा शुरू की। इस बार की यात्रा को लेकर तमाम पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। सुरक्षित तीर्थयात्रा सुनिश्चित करने के लिए विस्फोटकों का पता लगाने व अन्य कार्यों के लिए सुरक्षा बलों के साथ-साथ 200 उच्च शक्ति वाले बुलेटप्रूफ वाहनों को संवेदनशील स्थानों पर रखा गया है।

 

एक अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त  पर  बताया कि ये वाहन एक उच्च शक्ति वाली ऑटोमैटिक मैपिंग सुविधा से लैस हैं, और विमानों, जंगलों, पानी के साथ-साथ ऊंचाई वाले स्थानों पर आसानी से चलने की क्षमता रखते हैं। इसके अलावा, अधिकारी ने कहा कि इन वाहनों की प्रमुख विशेषज्ञता इम्प्रोवाइज्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस (आईईडी) का पता लगाना है। श्रीनगर और जम्मू को अमरनाथ से जोड़ने वाले मार्गों पर आईईडी का पता लगाने के लिए 200 वाहनों में से कई में "डीप पेनेट्रेटिंग रडार (DPR) है। अधिकारी ने दावा किया, "अगर हमला किया जाता है, तो इन वाहनों को लगभग 25 किलोग्राम वजन वाले IED के विस्फोट से नुकसान नहीं पहुंचाया जा सकता है।" हाल के दिनों में हथगोले, स्टिकी बम और आईईडी के इस्तेमाल जैसे ताजा खतरे उत्पन्न हुए हैं।

 

अधिकारी ने कहा कि इन सभी बातों को ध्यान में रखते हुए सुरक्षा बल हाई-टेक गैजेट्स के साथ इन वाहनों का भी इस्तेमाल कर रहे हैं। अधिकारी ने कहा कि उच्च सुरक्षा व्यवस्था के तहत गुरुवार को शुरू हुई 43 दिवसीय अमरनाथ यात्रा को देखते हुए पिछले कुछ महीनों में इन वाहनों को जम्मू-कश्मीर में लगाया गया क्योंकि खुफिया रिपोर्टों से पता चलता है कि 11 अगस्त को समाप्त होने वाली वार्षिक तीर्थयात्रा के लिए एक बड़ा खतरा है। जम्मू-कश्मीर में भी सुरक्षा कड़ी कर दी गई है, जिसमें अमरनाथ धाम की ओर जाने वाले वाहनों के मार्गों पर 130 से अधिक खोजी कुत्तों के इस्तेमाल पर विशेष जोर दिया गया है।

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Tanuja

Related News

Recommended News