भारत ने खैबर पख्तूनख्वा में 2 सिख व्यापारियों की नृशंस हत्या पर जताया कड़ा विरोध, पाकिस्तान में भी प्रदर्शन

punjabkesari.in Monday, May 16, 2022 - 04:09 PM (IST)

 पेशावरः भारत ने रविवार को पाकिस्तान के खैबर पख्तूनख्वा प्रांत में दो सिख व्यापारियों की नृशंस हत्या पर कड़ा विरोध जताते हुए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने की अपील की है। जबकि  सिख व्यापारियों की निर्मम हत्या पर उत्तर-पश्चिमी पाकिस्तान के अशांत खैबर पख्तूनख्वा प्रांत के लोगों ने रोष व्यक्त किया और समुदाय के सदस्यों के साथ-साथ स्थानीय लोगों ने प्रदर्शन करते हुए देश में अल्पसंख्यकों के लिए सुरक्षा की मांग की है।  

PunjabKesari


अफगानिस्तान की सीमा से लगे अशांत खैबर पख्तूनख्वा प्रांत में अल्पसंख्यक समुदाय के सदस्यों के खिलाफ नवीनतम लक्षित हमले में रविवार को पेशावर में इस्लामिक स्टेट के आतंकवादियों द्वारा दो सिख व्यवसायियों कंवलजीत सिंह (42) और रंजीत सिंह (38) की गोली मारकर हत्या कर दी गई।  दोनों मसालों का व्यापार करते थे और पेशावर से करीब 17 किलोमीटर दूर सरबंद के बाटा ताल बाजार में उनकी दुकानें थीं।

 

PunjabKesari

विदेश मंत्रालय (MEA ) ने एक मीडिया के जवाब में कहा, "हमने पेशावर में अज्ञात हथियारबंद लोगों द्वारा दो सिख व्यापारियों की नृशंस हत्या की खबर है। दुख की बात है कि यह अपनी तरह का पहला मामला नहीं है।" MEA के अनुसार, इस चौंकाने वाली और निंदनीय घटना पर भारतीय नागरिक समाज और सिख समुदाय के विभिन्न वर्गों द्वारा गंभीर चिंता व्यक्त की गई है। विदेश मंत्रालय ने अपने बयान में कहा, "हमने पाकिस्तान में अल्पसंख्यक समुदाय के सदस्यों को लगातार निशाना बनाए जाने पर पाकिस्तान सरकार को अपना कड़ा विरोध दर्ज कराया है। हम संबंधित अधिकारियों से इस मामले की ईमानदारी से जांच करने और इस निंदनीय घटना के लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने का आह्वान करते हैं।"

PunjabKesari

इस्लामिक स्टेट की खुरासान इकाई (ISKP) ने अपनी प्रचार समाचार सेवा ‘अमाक' के माध्यम से दावा किया कि उसने पेशावर में दो सिखों को निशाना बनाकर हमले को अंजाम दिया। आईएसकेपी दक्षिण एशिया और मध्य एशिया में सक्रिय इस्लामिक स्टेट (इस्लामिक स्टेट) का सहयोगी है। सोमवार को सिख समुदाय के सदस्यों के साथ स्थानीय लोगों ने भी विधानसभा भवन के बाहर विरोध प्रदर्शन किया और मुस्लिम बहुल देश में अल्पसंख्यकों की सुरक्षा की मांग करते हुए बैनर लेकर शहर में मुख्य जीटी रोड को अवरुद्ध कर दिया। पुलिस ने चुनिंदा तरीके से की गई हत्या और आतंकवाद का मामला दर्ज किया है। 

 

बता दें कि पेशावर में करीब 15,000 सिख रहते हैं, ज्यादातर प्रांतीय राजधानी पेशावर के बगल में स्थित जोगन शाह में रहते हैं। पेशावर में सिख समुदाय के ज्यादातर सदस्य व्यवसाय से जुड़े हैं, जबकि कुछ की दवा दुकानें भी हैं। पिछले आठ महीने में सिखों पर यह दूसरा बड़ा हमला है। पिछले साल सितंबर में एक प्रसिद्ध सिख हकीम (यूनानी चिकित्सक) की पेशावर में उनके क्लीनिक के अंदर अज्ञात बंदूकधारियों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। पिछले कुछ वर्षों में प्रांत में कम से कम 12 सिख मारे गए हैं। 

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Tanuja

Related News

Recommended News