सीमा विवाद:सरकार का दावा- असम के नागरिकों को धमका रहे मिजोरम के लोग

07/31/2021 6:49:13 AM

गुवाहाटीः असम-मिजोरम के बीच सीमा विवाद शांत पड़ता नहीं दिख रहा है। असम सरकार ने दावा किया कि मिजोरम के लोग असम के नागरिकों को धमका रहे हैं। इसे देखते हुए नागरिकों को पड़ोसी राज्य न जाने की सलाह दी गई है। असम के इस कदम को कांग्रेस ने भारतीय इतिहास का शर्मनाक दिन करार दिया। 

असम सरकार में मंत्री अशोक सिंघल ने कहा कि एक वीडियो फुटेज में मिजोरम के लोग हमें धमकाते दिख रहे हैं और वे हथियारों से भी लैस हैं। इसलिए हमने अपने नागरिकों को मिजोरम न जाने की एडवाइजरी जारी की है। यदि इसके बावजूद कोई वहां जाता है तो हम उसकी जिम्मेदारी नहीं लेंगे।

उन्होंने कहा कि मिजोरम की ओर से अभी भी भड़काऊ बयान जारी किए जा रहे हैं। हालांकि केंद्रीय गृह मंत्रालय की मध्यस्थता में वार्ता होगी। हमने अपनी पोस्ट केंद्रीय बलों के हवाले कर दी है लेकिन मिजोरम ने अभी तक पोस्ट से अपने जवानों को नहीं हटाया है। असम ने यह भी दावा किया है कि सीमा से लगते करीमगंज में मिजोरम के उपद्रवियों ने बंकर भी बना रखे हैं। 

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्व सरमा ने शुक्रवार को कहा कि हमने लोगों से आग्रह किया है कि जब तक हालात सामान्य नहीं हो जाते, वे मिजोरम की यात्रा न करें। मिजोरम में शांति होने पर हम जा सकते हैं। उन्होंने कहा कि मिजोरम के लोगों के पास एके-47 और स्नाइपर राइफलें हैं, ऐसे में अपने लोगों को वहां जाने की कैसे अनुमति दे सकते हैं? मिजोरम सरकार को अपने नागरिकों से इन हथियारों को जब्त करना चाहिए। लोग इसे लेकर आशंकित हैं।

सभी वाहनों की जांच के आदेश बचाव करते हुए उन्होंने कहा कि अंतरराष्ट्रीय मार्केट से ड्रग्स मिजोरम के जरिए आ रही है और वाया असम पूरे देश में पहुंच रही है। मिजोरम के लोग इसमें शामिल नहीं हो सकते हैं लेकिन वहां से बड़ी मात्रा में ड्रग्स आ रही है। इसे रोकने के लिए वाहनों की जांच की जा रही है। उन्होंने कहा कि राज्यसभा सांसद के वनललवेना की हिंसक झड़प में कथित भूमिका की जांच के लिए सीआईडी की एक टीम नई दिल्ली गई है। 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Pardeep

Related News

Recommended News