अमेरिका में पांच भारतीयों की मौत पर विदेश मंत्रालय का आया बयान, कहा- मेडिकल रिपोर्ट का इंतजार

punjabkesari.in Thursday, Feb 08, 2024 - 08:02 PM (IST)

नेशनल डेस्कः संयुक्त राज्य अमेरिका में पिछले दो सप्ताह में पांच युवाओं की मौत की ख़बर आई। जिसके बाद विदेश मंत्रालय की ओर से इस बात पर जानकारी साझा की गई है। इस दौरान विदेश मंत्रालय ने इन घटनाओं पर चिंता भी जताई है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रणधीर जयसवाल ने गुरुवार को कहा कि अब तक ऐसे पांच मामले सामने आए हैं और इनमें से दो भारतीय नागरिक हैं। हालांकि उन्होंने साफ किया कि मामले आपस में जुड़े हुए नहीं हैं। विदेश मंत्रालय कहा कि “पांच मामले हैं। इनमें से दो भारतीय नागरिक हैं। जो हो रहा है वह चिंताजनक है। विवेक सैनी के मामले में, अपराधी को गिरफ्तार कर लिया गया है। उन्होंने कहा, “ये सभी मामले आपस में जुड़े हुए नहीं हैं। हम अमेरिकी अधिकारियों के संपर्क में हैं।”

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि 29 जनवरी को अमेरिका के जॉर्जिया के लिथोनिया में एक स्टोर के अंदर एक बेघर व्यक्ति द्वारा विवेक सैनी की हथौड़े से बार-बार वार करके बेरहमी से हत्या कर दी गई थी। जयसवाल ने कहा, "अपराधी को गिरफ्तार कर लिया गया है और स्थानीय अधिकारी मामले की जांच कर रहे हैं और इसे आगे बढ़ा रहे हैं।"

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि सिनसिनाटी विश्वविद्यालय के एक अन्य मामले में, प्रारंभिक रिपोर्ट से पता चलता है कि कोई गड़बड़ी नहीं हुई है, हालांकि मेडिकल रिपोर्ट का इंतजार है। उन्होंने कहा कि सिनसिनाटी विश्वविद्यालय में एक भारतीय छात्र का दूसरा मामला। उसकी भी मृत्यु हो गई। इसमें कोई गड़बड़ी नहीं है। प्रारंभिक रिपोर्ट यही कहती है। उस विशेष मामले में भी कोई गड़बड़ी नहीं है। लेकिन हम मेडिकल रिपोर्ट का इंतजार कर रहे हैं।

जायसवाल ने कहा कि मंत्रालय अमेरिका में मारे गए हैदराबाद के छात्र के परिवार के संपर्क में है और “वाणिज्य दूतावास हर संभव तरीके से सहायता कर रहा है।” हाल ही में, एक 23 वर्षीय भारतीय छात्र, समीर कामथ, संयुक्त राज्य अमेरिका में वॉरेन काउंटी, इंडियाना में मृत पाया गया था। यह इस वर्ष भारतीय छात्रों की मौत की पांचवीं घटना है। वहीं पर्ड्यू विश्वविद्यालय की दूसरी घटना है।

इससे पहले लिंडर स्कूल ऑफ बिजनेस के छात्र श्रेयस रेड्डी ओहियो के सिनसिनाटी में मृत पाए गए थे। हालाँकि, उनकी मृत्यु का कारण अज्ञात है। विवेक सैनी और नील आचार्य की भी मौत की खबर के बाद एक सप्ताह के भीतर यह किसी भारतीय छात्र की तीसरी मौत है। नील आचार्य पर्ड्यू विश्वविद्यालय में छात्र थे और 30 जनवरी को परिसर में मृत पाए गए थे। इस बीच, 29 जनवरी को जॉर्जिया के लिथोनिया में विवेक सैनी की बेरहमी से हत्या कर दी गई थी।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Yaspal

Related News