आर्टिकल 370 पर कांग्रेस नेता दिग्विजय ने दिया बयान, फारुख अबदुल्ला ने किया स्वागत

2021-06-12T18:43:59.893

नेशनल डेस्कः मोदी सरकार द्वारा साल 2019 में जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 खत्म किया। लेकिन बीच-बीच में जम्मू-कश्मीर को लेकर बयानवाजी होती रही है। शुक्रवार को कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय ने जम्मू-कश्मीर में कांग्रेस की सरकार आने पर फिर से अनुच्छेद 370 लागू करने की बात कही। एनसी नेता और जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारुख अबदुल्ला ने दिग्विजय के बयान का स्वागत किया है। फारूक अब्दुल्ला ने शनिवार को दावा किया कि जम्मू-कश्मीर का भारत संघ में विलय नहीं हुआ, बल्कि 1947 में कुछ शर्तों पर शामिल हुआ।

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि मैं दिग्विजय सिंह का बहुत आभारी हूं जिन्होंने अन्य दलों के रूप में लोगों की भावनाओं को महसूस किया है जिन्होंने इसके बारे में भी बात की है? सांसद ने कहा कि मैं इसका तहे दिल से स्वागत करता हूं और उम्मीद करता हूं कि केंद्र सरकार इस पर फिर से गौर करेगी। पूर्व केंद्रीय मंत्री डॉ अब्दुल्ला ने कहा कि राज्य का विलय नहीं हुआ बल्कि कुछ शर्तों पर भारत संघ में शामिल हुआ और शर्तों में से एक 370 थी। उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट (एससी) ने दो बार दो फैसले दिए जिनमें स्पष्ट रूप से कहा गया कि यह (अनुच्छेद 370) एक स्थायी विशेषता है।

हालांकि, उन्होंने कहा कि दिल्ली में सत्ता में एक राजनीतिक दल है जिसका अनुच्छेद 370 को निरस्त करने के लिए एक लंबा स्टैंड है। लेकिन, पूर्व सीएम ने कहा कि यह देश के लोगों का नहीं बल्कि भाजपा का स्टैंड है। बीजेपी इसे चाहती थी और उन्होंने जम्मू-कश्मीर और लद्दाख तीनों क्षेत्रों के लोगों की इच्छा के खिलाफ इसे रद्द कर दिया। तीनों क्षेत्रों के लोगों ने इसका विरोध किया और उन्होंने (भाजपा ने) जो किया है उसका हम विरोध करना जारी रखेंगे।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Yaspal

Recommended News