बाबा अमरनाथ के दर्शन करने पहुंचने लगे श्रद्धालु, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने किए दर्शन

07/18/2020 8:36:41 PM

जम्मूः दक्षिण कश्मीर के हिमालय में 3,880 मीटर की ऊंचाई पर स्थित पवित्र अमरनाथ गुफा के दर्शन की इच्छा लिए झारखंड की राजधानी रांची से छह लोगों का जत्था जम्मू पहुंचा है। अमरनाथ गुफा के लिए पहलगाम और गांदेरबल दोनों ही रास्तों से पहले 42 दिन की प्रस्तावित यात्रा 23 जून को शुरू होने वाली थी, लेकिन कोरोना वायरस महामारी के कारण उसमें देरी हो गई है। हालांकि जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने पहले कहा था कि वह बेहद सख्ती के साथ यात्रा शुरू करेगा और एक दिन में सिर्फ 500 श्रद्धालुओं को जम्मू से अमरनाथ रवाना किया जाएगा। लेकिन 15 जुलाई को उच्च न्यायालय ने श्री अमरनाथ श्राइन बोर्ड से कहा था कि लोगों के स्वास्थ्य के अधिकार को सर्वोच्च प्राथमिकता देते हुए वह यात्रा पर तत्काल फैसला करे।
PunjabKesari
रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने शनिवार को पवित्र अमरनाथ गुफा के दर्शन किए। उनके साथ प्रमुख रक्षा अध्यक्ष जनरल विपिन रावत और सेना प्रमुख जनरल एम.एम. नरवणे भी गए थे। तीनों ने यहां करीब एक घंटे का समय बिताया। पिछले कुछ सप्ताह में केन्द्र शासित प्रदेश में कोरोना वायरस संक्रमण के ज्यादा मामले आए हैं, खास तौर से कश्मीर में। इस कारण प्रशासन को मजबूरन ग्रीष्मकालीन राजधानी श्रीनगर सहित घाटी के कई हिस्सों में लॉकडाउन लागू करना पड़ा है।
PunjabKesari
अपने पांच मित्रों के साथ रांची से यहां पहुंचे दीपक चौधरी का कहना है, ‘‘इस वार्षिक यात्रा पर कोरोना वायरस की काली छाया पड़ने के बावजूद हमें विश्वास है कि पवित्र अमरनाथ गुफा दर्शन हो सकेंगे।'' रांची ये आए ये लोग बस स्टैंड के पास एक होटल में रुके हैं क्योंकि इन्हें अमरनाथ यात्रियों के लिए बने यात्री निवास में रुकने की अनुमति कथित रूप से नहीं मिली है। यात्री निवास जम्मू के भगवती नगर इलाके में बना हुआ है और यह अमरनाथ गुफा दर्शन के लिए जाने वाले श्रद्धालुओं के लिए बेस कैंप की तरह काम करता है। यात्री निवास को पहले कोविड केयर केन्द्र में परिवर्तित कर दिया गया था, लेकिन अब उसे तीर्थ यात्रा के लिए तैयार किया जा रहा है।
PunjabKesari
आशा है कि यात्रा इसी महीने करीब दो सप्ताह के लिए शुरू होगी। चौधरी का कहना है, ‘‘मैं पिछले 11 साल से यात्रा पर जा रहा हूं। हमारा 150 लोगों का बड़ा समूह हुआ करता था लेकिन इस बार हम सिर्फ छह मित्र पवित्र गुफा जा रहे हैं।'' उन्होंने बताया कि पंजाब की सीमा पर लखनपुर में जम्मू-कश्मीर में प्रवेश से पहले उनकी जांच हुई है। ‘‘कोविड-19 के लिए हमारे नमूने भी लिए गए।'' 26 साल से यात्रा पर जा रहे, और रांची से आए समूह में शामिल मनोज कुमार जायसवाल का कहना है, ‘‘हमें सरकार से सकारात्मक प्रतिक्रिया की आशा है।''

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Yaspal

Recommended News