निर्भया के खत, अपनी मां को बयां किया था दर्द और आखिरी ख्वाहिश

2020-01-18T17:27:32.797

नई दिल्ली: दिल्ली की एक अदालत ने निर्भया गैंगरेप और हत्याकांड के चारों दोषियों को एक फरवरी को सुबह छह बजे फांसी पर लटकाने के लिए शुक्रवार को नया मृत्य वारंट जारी कर दिया हालांकि अभी भी क्या पता ये तारीख भी आगे बढ़ जाए....हालांकि, सोचने वाली बात ये है कि एक 23 साल लड़की के साथ 6 हैवानों दरिंदगी की सारी हदें पार कर दी। लेकिन उनको सजा मिलने की जगह केवल रियायतें मिल रही है और इन रियायतों को देखकर निर्भया की आत्मा भी वो ही जख्म महसूस कर रही होगी जैसा कभी उसके शरीर ने किया होगा।

PunjabKesari

कितना गहरा होगा वो दर्द जिसे निर्भया ने झेला होगा। वो बोल भी नहीं पा रही थी। लेकिन अपनी मां तक अपनी बात पहुंचाना चाहती थी। इसलिए उस हालात में भी उसने हिम्मत करके अपनी मां को चिट्ठियां लिखी। कुल 6 चिट्ठियां, जिसमें उसने अपने दर्द से लेकर अपना गुस्सा और अपनी आखिरी ख्वाहिश तक के बारे में बताया।

PunjabKesari

क्यों बढ़ी मौत की तारिख
दिल्ली सरकार के अनुसार, जेल नियमों में दया याचिका खारिज करने और फांसी दिए जाने के बीच 14 दिन का अंतर होना अनिवार्य है। जेल अधिकारियों ने तैयारियां कर ली हैं। दिल्ली की एक अदालत ने सात जनवरी को मृत्यु वारंट जारी करते हुए कहा था कि चारों दोषियों- मुकेश सिंह(32), विनय शर्मा (26), अक्षय कुमार सिंह (31) और पवन गुप्ता (25) को 22 जनवरी की सुबह सात बजे तिहाड़ जेल में फांसी दी जाएगी। हालांकि, दिल्ली सरकार ने उच्च न्यायालय को सुनवाई के दौरान बताया कि दोषियों को निर्धारित तारीख पर फांसी नहीं दी जा सकती क्योंकि एक दोषी मुकेश की दया याचिका लंबित है। इससे पहले तिहाड़ जेल के अधिकारियों ने शुक्रवार को दिल्ली की अदालत से निर्भया मामले के चारों दोषियों के खिलाफ मौत की सजा पर अमल का फरमान (डेथ वॉरंट) फिर से जारी करने की मांग की थी।

PunjabKesari


Edited By

Anil dev

Related News