सटोरियों ने बाजार का खोला भाव, खुलते ही ‘आप’ हुई फेवरेट

2020-01-14T11:35:22.777

नई दिल्ली: राजधानी में ठीक एक माह बाद 11 फरवरी को दिल्ली का किंग कौन होगा, इसके बारे में पता चलेगा, जिस पार्टी की 36 सीटें होंगी वही सत्ता पर काबिज होगी। भाजपा, ‘आप’ और कांग्रेस सभी पार्टियां अपनी जीत को लेकर आशंकित और आश्वस्त भी हैं, लेकिन एक बाजार ऐसा भी है, जिसने अभी से तय कर दिया है कि राजधानी में किसकी सरकार बनेगी और दिल्ली का इस बार किंग कौन होगा। राजधानी में सटोरियों ने रविवार को अपने भाव खोल दिए हैं। भाव खुलते ही दाव भी लगने शुरू हो गए हैं। खुले भाव के तहत जहां राजधानी की सत्ता में ‘आप’ सरकार की वापसी तय की गई, भाजपा फिर से विपक्ष में होगी वहीं कांग्रेस को फिर शून्य पर रखा गया है। बाजार के तहत भाव खुलते ही अनुमान के मुताबिक पहले ही दिन 600 करोड़ का दाव खेला जा चुका है।

PunjabKesari


दिल्ली की कुछ और सीटों पर भी लगा दाव
बाजार में लगे दाव के तहत इस बार करावल नगर सीट, पटपडग़ंज, नई दिल्ली, मालवीय नगर, चांदनी चौक, मटियामहल सीटों पर अलग से दाव खेला गया है। इस दाव के तहत ये सीटें पहले ‘आप’ के खाते में थीं लेकिन सटोरियों के तहत इनमें से केवल नई दिल्ली पर ‘आप’ को फेवरेट रखा गया है, जबकि पटपडग़ंज सीट पर भाजपा का दाव खेला गया है। यानी इस बार डिप्टी सी.एम. की सीट पर कड़ी टक्कर होने की उम्मीद है। इसके अलावा मटियामहल सीट पर बाजार के तहत ‘आप’ यहां कमजोर रह सकती है।

PunjabKesari

 

बाजार के तहत पार्टियों की इतनी सीटें आने का अनुमान 

  • ‘आप’ पार्टी 45 से 50 के बीच
  • भाजपा व अकाली दल के साथ 10 से 15 के बीच सीटें।
  • कांग्रेस शून्य से 5 के बीच
  • निर्दलीयों पर इस बार कोई भाव नहीं
     

यह बाजार कहां है
बाजार का रेट शनिवार देर रात और फिर सुबह खोला गया। राजस्थान के फलौदी बाजार से इसकी शुरूआत हुई, वहीं राजधानी में एक नया बाजार भी खुला जो फलौदी और मध्य प्रदेश के निर्देश पर दाव लगवा रहा है। खुले बाजार में जैसे ही दिल्ली का भाव खुला तो ‘आप’ पार्टी को फेवरेट बना दिया, जबकि कांग्रेस का अच्छा भाव होने के बाद सटोरियों ने उस पर दाव नहीं खेला। हालांकि, भाजपा पर सटोरियों ने 70:30 का दाव खेला है जिसके तहत साफ है कि इस बार भी दिल्ली में ‘आप’ की सरकार बनेगी।


ये हैं खुले रेट

  • ‘आप’ पार्टी को फेवरेट श्रेणी में रखा गया है, जिसके तरह 1 रुपए लगाने पर आपको महज 12 पैसे का भाव मिलेगा।
  • कांग्रेस पार्टी का सटोरियों ने दाव कम खेला है। बाजार भाव के तहत कांग्रेस को महज 5 सीटों तक सीमित रखा गया है। 
  • बाजार के तहत 10 सीटों पर भाव लगाने पर 1 रुपए के बदले 8 रुपए दाव है।
  • भाजपा को 15 से 20 सीटों तक सीमित रखा गया है। बाजार के तहत 20 सीटों पर 1 के बदले 7 रुपए का भाव जबकि 15 सीटों पर 1 के बदले 11 का भाव है। 
  • तय की गई 8 सीटों पर भाजपा को 1 के बदले 2 रुपए वहीं कांग्रेस के जीतने पर 4 रुपए का भाव है।

Edited By

Anil dev

Related News