कोरोना महामारी के कारण नहीं है कमाई, गहने बेचकर भर रहीं हैं महिलाएं EMI

2020-08-30T19:48:51.467

नई दिल्लीः रोजी-रोटी के लिए ई-रिक्शा का पेशा चुनने वाली महिलाएं कोविड-19 महामारी की वजह से भले उसे नहीं चला पा रही हैं, और कमाई नहीं होने से उसका ऋण नहीं दे पा रही हैं लेकिन यह व्यवसाय अपनाकर जीवन की अपनी नैया को पार लगाने का निर्णय ले चुकीं इन औरतों का हौसला बरकरार है। इन महिलाओं ने परंपरा का उल्लंघन करने को ठाना था और घर के चौखट के बाहर कदम रखकर उन्होंने ई-रिक्शा चलाना शुरू किया था। अब उनका कहना है कि यह महामारी क्या चीज है, उससे कहीं कोई बड़ी बात हुई तब शायद वे अपने कदम पीछे खीचेंगी। इन महिलाओं को प्रशिक्षण और ऋण दिलाने में सहयोग करने वाले हमसफर और एसएमवी ग्रीन सोल्युसंश जैसे संगठनों का कहना है कि उनमें से कोई भी अपना वाहन बेचने के लिए उनके पास नहीं आई।

रिक्शा नहीं बेचना चाहती महिलाएं
लखनऊ की सीमा खान ने कहा, ‘‘ मैं पैसे कमाने के लिए इन दिनों अस्थायी रूप से सभी तरह के छोटे-मोटे काम करने के लिए तैयार हूं लेकिन ऐसा बिल्कुल नहीं हो सकता कि मैं अपना रिक्शा बेच दूं।'' वह देशभर की उन महिलाओं में है जिन्होंने किसी तरह डाउन पेमेंट का जुगाड़कर अपने शहर में सहयोग केद्रों की मदद से ई-रिक्शा खरीदा और अब वे अपनी जीविका चला रही थीं और ईएमआई भर रही थीं। कुछ साल तक किराए पर ई-रिक्शा चलाने के बाद खान ने आठ महीने पहले अपना तिपहिया वाहन खरीदने का फैसला किया ताकि बिचौलिए के दखल से बच पाएं और कमाई अपनी हो।

लॉकडाउन के पहले तक उसकी आय इतनी थी कि घर का खर्चा आसानी से चल जाता था और रिक्शा की किस्त भी चुका लेती थी। एक रिक्शा पर करीब 1,45,000 रूपए की लागत आती है। बैंकों से 14 प्रतिशत की ब्याज दर से ऋण लेने से चुकाने लायक राशि करीब 1,86,000 रूपए बन जाती है। अन्य महिलाओं की तरह खान भी हर 14 दिनों पर 2,849 रूपए देती आ रही थी और महीने में 5,698 रूपए का भुगतान करना होता था। कोविड-19 महामारी से पहले ऐसा करना मुमकिन था लेकिन पिछले छह महीने में सब कुछ बदल गया।

EMI न भरने पर देते हैं रिक्शा उठाने की धमकी
खान ने कहा, ‘‘ यह खौफनाक है।'' पिछले कुछ दिनों खान ने अपने गहने गिरवी रख दिए, साहूकार से पैसे लिए और अब किस्त देने का प्रयास कर रही है। जिस महीने देरी होती है तो बैंक वाले उसका ई-रिक्शा जब्त कर लेने की धमकी देते हैं। उसने कहा, ‘‘ लॉकडाउन के दौरान बिल्कुल कोई कमाई नहीं थी। उसके बाद भी हमें मुश्किल से यात्री मिल रहे हैं। लॉकडाउन से पहले जितना कमा लेती थी, अब उसके आधे से भी कम कमा पाती है। मैं कर्ज चुकाने का प्रयास कर रही हूं लेकिन जब देर हो जाती है तो वे कहते हैं, पैसे नहीं दोगे तो हम रिक्शा उठा लेंगे।'' यह जानते हुए कि महामारी का अंत निकट भविष्य में नहीं दिख रहा है और चुनौतियां अभी बनी रहेंगी, रिक्शा बेचना आसान विकल्प जान पड़ता है लेकिन आत्मनिर्भरता की डगर पर चल चुकी खान ने कहा कि यह कोई विकल्प नहीं है।


Yaspal

Related News