See More

भारत चीन विवाद के बीच वायुसेना प्रमुख पहुंचे लेह-लद्दाख, अग्रिम सीमा पर लड़ाकू विमान हुए तैनात

2020-06-19T17:35:44.447

नई दिल्लीः भारत और चीन के बीच पिछले डेढ़ महीने से तनाव की स्थिति बनी हुई है। किसी भी तरह की स्थिति से निपटने के लिए सेना से लेकर वायुसेना अलर्ट पर हैं। इस बीच बुधवार की देर रात वायुसेना प्रमुख आरकेएस भदौरिया ने लेह एयरबेस का दौरा किया। वायुसेना इस वक्त लेह-लद्दाख इलाके में अलर्ट पर है। ऐसे में इस दौरे की अहमियत काफी अधिक है। सूत्रों के मुताबिक,  “वायुसेना प्रमुख RKS भदौरिया बुधवार रात को श्रीनगर-लेह एयरबेस पर पहुंचे। चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ बिपिन रावत और सेना प्रमुख एमएम नरवणे से मुलाकात करने के बाद ये दौरा शुरू हुआ था।“
PunjabKesari
चीन के साथ जारी विवाद में बॉर्डर के पास लेह और श्रीनगर एयरबेस काफी अहम हैं। ऐसे में वायुसेना प्रमुख ने यहां की तैयारी और जरूरतों का जायजा लिया। बता दें कि वायुसेना ने मिराज 2000 की फ्लीट को भी लद्दाख क्षेत्र के पास मूव कर लिया है, ताकि चीन के पास बॉर्डर पर तुरंत मूव किया जा सके। इसी फ्लीट ने बालाकोट में एयर स्ट्राइक की थी। इससे पहले सुखोई-30 को भी अलर्ट पर रखा गया और ऊपर के एयरबेस पर तैनात किया गया है।
PunjabKesari
चीन के साथ जारी विवाद के बीच अपाचे और चिनूक जैसे हेलिकॉप्टर को लद्दाख में तैनात किया गया है, ताकि जवानों को तुरंत मदद पहुंचाई जा सके। अपाचे हेलिकॉप्टर किसी भी मुश्किल परिस्थिति में काम में लाया जा सकता है। हालांकि, वायुसेना प्रवक्ता की ओर से इस दौरे को लेकर कोई पुष्टि नहीं की गई है। दूसरी ओर लेह के बेस पर वायुसेना की हलचल बढ़ी है। श्रीनगर, अम्बाला, आदमपुर, हलवाड़ा जैसे इलाकों में वायुसेना ने अपनी हलचल को बढ़ाया है।
PunjabKesari
गौरतलब है कि बरेली में जो एयरफोर्स का बेस है वह तिब्बत रीजन के पास है ऐसे में उसे अलर्ट किया गया है। बता दें कि चीन ने धोखे से 15 जून की रात को भारतीय सेना के जवानों पर हमला किया, जिसमें 20 जवान शहीद हो गए। ऐसे में अब भारत की ओर से कोई कमी नहीं छोड़ी जा रही है।
PunjabKesari


Yaspal

Related News