टीडीपी के 10 विधायक निलंबित, पूर्व सीएम चंद्रबाबू नायडू ने विधानसभा से किया वॉक आउट

2020-12-04T18:22:10.637

नेशनल डेस्कः आंध्र प्रदेश विधानसभा के शीतकालीन सत्र के पांचवें दिन यानी शुक्रवार को विधानसभा अध्यक्ष ने विपक्षी तेलुगु देशम पार्टी (TDP) के 10 विधायकों को उपद्रव मचाने पर निलंबित कर दिया। सत्र के अंतिम दिन किंजरापू अटचंदू, वेलगापुड़ी रामकृष्ण बाबू, डोला बाला वीरंजनेय स्वामी, बेंडलम, अशोक, निम्मी रामानाडयू, येलुरी सम्बासिवा राव, मंटेना रामाराजू, अंजनी सत्यप्रतापप्रदा, वी जोगेश्वर राव और गोरेंटला बुचिया चौधरी को निलंबित कर दिया गया, जिसके बाद विपक्ष के नेता और पूर्व मुख्यमंत्री नारा चंद्रबाबू नायडू भी सदन से वॉक आउट कर गए।

सदन की कार्यवाही शुरू होने के बाद भी हंगामा जारी रहा। टीडीपी के विधायक स्पीकर के पोडियम के करीब आने की कोशिश की। कुर्सी पर खड़े हो गए और नारा लगाते रहे। इसके बाद सूचना और जनसंपर्क मंत्री पर्णी वेंकटरमैया ने टीडीपी विधायकों के निलंबन का प्रस्ताव रखा। स्पीकर तमिनमनी सीताराम ने टीडीपी के 10 विधायकों को निलंबित कर दिया। 

सदस्यों के डेयरी उद्योग पर चर्चा करने के साथ-साथ सत्ताधारी और विपक्षी विधायकों में गर्मागर्मी के कारण उपद्रव शुरू हो गया। मुख्यमंत्री वाईएस जगनमोहन रेड्डी ने कहा कि उन्होंने डेयरी उद्योग पर चर्चा के दौरान नायडू के मौजूद रहने की उम्मीद की थी, लेकिन उन्होंने दुर्भाग्य से अपनी पार्टी के सदस्यों को स्पीकर के मंच पर चढ़ने और स्वार्थी उद्देश्यों के लिए अराजकता पैदा करने के लिए चुना।

रेड्डी ने आरोप लगाया कि विपक्षी नेता ने मीडिया साक्षात्कार दिए थे और सदन से बाहर निकलने के बाद झूठ फैला रहे हैं। स्पीकर तम्मीनेनी सीताराम ने विधानसभा में विपक्षी सांसदों के आचरण पर आपत्ति जताई। उन्होंने कहा, "हर दिन, आप सदन के कामकाज को रोक रहे हैं। मैं हर दिन आपको निलंबित करने के लिए दुखी हूं। उनके व्यवहार को देखते हुए, मेरे पास कोई दूसरा विकल्प नहीं है।"


Yaspal

Recommended News