कर्नाटक: हिस्ट्रीशीटर के साथ मंच साझा करने वाले भाजपा नेताओं से स्पष्टीकरण मांगेंगे कटील

punjabkesari.in Tuesday, Nov 29, 2022 - 05:05 PM (IST)

बेंगलुरु, 29 नवंबर (भाषा) कर्नाटक भाजपा अध्यक्ष नलिन कुमार कटील ने मंगलवार को कहा कि वह पार्टी के उन नेताओं से स्पष्टीकरण मांगेंगे जिन्होंने हिस्ट्रीशीटर ‘साइलेंट’ सुनील के साथ मंच साझा किया। कटील ने साथ ही यह भी स्पष्ट किया कि उसे किसी भी कीमत पर पार्टी में शामिल नहीं किया जाएगा।

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के मध्य बेंगलुरु सांसद पी सी मोहन, बेंगलुरु दक्षिण सांसद तेजस्वी सूर्या, चिकपेट विधायक उदय गरुड़हर, बेंगलुरु दक्षिण भाजपा अध्यक्ष एन आर रमेश सहित अन्य नेता रविवार को सुनील के साथ एक रक्तदान शिविर में देखे गए थे, जिसको लेकर विवाद उत्पन्न हो गया था।
इससे ये भी अटकलें शुरू हो गईं कि सुनील अपनी राजनीतिक शुरुआत के लिए भाजपा में शामिल होगा।

कटील ने कहा, ‘‘ ''साइलेंट'' सुनील को किसी भी कीमत पर पार्टी में शामिल नहीं किया जाएगा। मैं उसके साथ एक कार्यक्रम में शामिल हुए पार्टी के कुछ नेताओं के बारे में जानकारी जुटा रहा हूं। उन नेताओं से स्पष्टीकरण मांगा जाएगा।’’
कटील ने एक बयान में कहा कि उन्होंने नेताओं को यह ध्यान रखने का निर्देश दिया है कि ऐसी घटनाएं दोबारा न हों और उन्होंने सभी मामलों को पार्टी के संज्ञान में लाने को कहा है।

उन्होंने कहा, ‘‘पार्टी आतंकवादियों, आतंकवादी गतिविधियों का समर्थन करने वालों और आपराधिक पृष्ठभूमि वाले लोगों को कभी बर्दाश्त नहीं करेगी।’’
सुनील को किसी समय बेंगलुरु के ‘सबसे खूंखार’ कथित सुपारी हत्यारों में से एक माना जाता था, लेकिन वह अब दावा करता है कि उसने आपराधिक गतिविधियां छोड़ दी हैं और समाज सेवा के कार्य में लग गया है।
इस घटना के बाद से कांग्रेस राज्य में सत्तारूढ़ भाजपा पर निशाना साध रही है।

कांग्रेस महासचिव एवं कर्नाटक के लिए पार्टी मामलों के प्रभारी रणदीप सिंह सुरजेवाला ने एक ट्वीट में कहा, ‘‘बंगलुरु के हिस्ट्रीशीटर के लिए भाजपा का नुस्खा, जो पुलिस के छापे में नहीं मिलते, वे सार्वजनिक मंच पर भाजपा नेताओं के साथ पाए जाते हैं, राजनीति में शामिल होते हैं और (नरेंद्र) मोदी से प्रेरित होते हैं। पहले जो सट्टेबाजी में लिप्त थे, वे भी अब भाजपा और मोदी से प्रेरित हैं।’’
प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डी के शिवकुमार, विपक्ष के नेता सिद्धारमैया ने भी भाजपा सरकार पर निशाना साधा।

कांग्रेस पर पलटवार करते हुए, भाजपा ने एक ट्वीट में दावा किया कि शिवकुमार कभी गैंगस्टर कोटवाल रामचंद्र के ‘‘पसंदीदा शागिर्द’’ थे।

भाजपा ने कहा, ‘‘किसी समय कोटवाल के पसंदीदा शागिर्द। तिहाड़ जेल से कर्नाटक कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष के पद पर पदोन्नत हुए। क्या आप अपनी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष के ‘‘उन दिनों’’ को भूल गए हैं?’’
उसने कहा, ‘‘अंडरवर्ल्ड में पले-बढ़े डी के शिवकुमार कांग्रेस अध्यक्ष हैं। हत्या के आरोपी विनय कुलकर्णी और गुंडागर्दी के लिए जाने जाने वाले मोहम्मद नलपाड कर्नाटक कांग्रेस के नेता हैं...।’’
भाजपा पर कांग्रेस के हमले पर प्रतिक्रिया देते हुए, मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने राजधानी दिल्ली में कांग्रेस से कहा कि उसके पास जितने भी हिस्ट्रीशीटर हैं, वह उनकी ‘‘गिनती’’ करे।

रविवार की घटना के बाद पुलिस भी निशाने पर आ गई, क्योंकि जब उसने हाल ही में बेंगलुरु में हिस्ट्रीशीटर्स के खिलाफ छापेमारी की थी तब सुनील कथित तौर पर पुलिस को नहीं मिला था।
केंद्रीय अपराध शाखा (सीसीबी) के संयुक्त आयुक्त एस डी शरणप्पा ने सोमवार को यह स्पष्ट किया कि पुलिस पर कोई राजनीतिक दबाव नहीं है। उन्होंने कहा कि सुनील के खिलाफ कोई लंबित वारंट नहीं है, न ही किसी मामले के संबंध में पूछताछ के लिए उसकी आवश्यकता है, इसलिए उसे कार्यक्रम के तुरंत बाद कार्यक्रम स्थल से नहीं पकड़ा गया।


यह आर्टिकल पंजाब केसरी टीम द्वारा संपादित नहीं है, इसे एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड किया गया है।

सबसे ज्यादा पढ़े गए

PTI News Agency

Related News

Recommended News