हिंदू संगठन ‘‘ मैं नुपुर शर्मा का समर्थन करता हूं’’अभियान शुरू करेंगे : प्रमोद मुतालिक

punjabkesari.in Wednesday, Jun 29, 2022 - 08:30 PM (IST)

बेंगलुरु, 29 जून (भाषा) श्रीराम सेना के अध्यक्ष प्रमोद मुतालिक ने राजस्थान के उदयपुर में एक दर्जी की नृशंस हत्या की निंदा करते हुए बुधवार को कहा कि हिंदू समाज ऐसे आतंकी कृत्यों को बर्दाश्त नहीं करेगा। उन्होंने इस हत्याकांड में शामिल लोगों को मौत की सजा देने की भी मांग की।
मुतालिक ने इसके साथ ही ‘‘मैं हूं कन्हैया लाल’’ और ‘‘मैं नुपुर शर्मा का समर्थन करता हूं’’ नाम से अभियान शुरू करने की भी घोषणा की।
हिंदूवादी संगठन श्रीराम सेना के अध्यक्ष ने कहा, ‘‘...खून खौल रहा है, हिंदू समाज उग्र है, उन्होंने (हत्यारों ने) न केवल कन्हैया लाल की हत्या की है बल्कि हिंदू समाज की हत्या कर रहे हैं और उसे उकसा रहे हैं...बहुत हो चुका। केंद्र सरकार को हस्तक्षेप करना चाहिए क्योंकि उन्होंने प्रधानमंत्री (नरेंद्र) मोदी को भी धमकी दी है। यह सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि जो इस घटना के पीछे हैं उन्हें फांसी पर लटकाया जाए।’’
उन्होंने कहा कि ‘युवा ब्रिगेड’, ’हिंदू जन जागृति समिति’, ‘श्रीराम सेना’ और अन्य हिंदू संगठन मिलकर बृहस्पतिवार को ‘‘मैं हू कन्हैया लाल’ और ‘‘मैं नुपुर शर्मा का समर्थन करता हूं’’नाम से अभियान शुरू करेंगे।
उल्लेखनीय है कि राजस्थान के उदयपुर में दो लोगों ने मंगलवार को पेशे से दर्जी कन्हैया लाल का ‘‘सिर कलम’’ कर दिया था और ऑनलाइन वीडियो साझा कर दावा किया था कि उन्होंने इस्लाम के कथित अपमान का बदला लिया है।
भाजपा के वरिष्ठ नेता और विधायक के.एस.ईश्वरप्पा ने मांग की कि ‘‘ देश विरोधी गतिविधियों में शामिल लोगों’’को मृत्युदंड देने के लिए नया कानून बनाया जाए।
कर्नाटक के गृहमंत्री अर्गा ज्ञानेंद्र ने हत्या को क्रूर और अमानवीय बताया और गिरफ्तार आरोपियों को अधिकतम सजा दिलाने की मांग की।
उन्होंने घटना के लिए राजस्थान की कांग्रेस सरकार को जिम्मेदार ठहराते हुए कथित बुद्धिजीवियों की चुप्पी पर सवाल उठाया। ज्ञानेंद्र ने पूछा कि क्या उन्हें अब ‘लकवा’ मार गया है।
भाजपा की कर्नाटक इकाई के अध्यक्ष नलिन कुमार कटील ने राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार को बर्खास्त करने की मांग की।
पूर्व मुख्यमंत्री और जद (एस) नेत एच.डी.कुमार स्वामी ने घटना को ‘‘आसुरी कृत्य’’ करार दिया जिसका उद्देश्य अभिव्यक्ति की आजादी को दबाना था। उन्होंने हत्यारों को सख्त सजा देने की मांग की।
कर्नाटक विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष सिद्धरमैया ने कहा, ‘‘मैं उदयपुर में निर्दोष व्यक्ति का सिर कलम करने की नृशंस घटना की कड़े शब्दों में निंदा करता हूं। इस क्रूर कृत्य को किसी भी हालत में न्यायोचित नहीं ठहराया जा सकता और दोषियों को दंडित किया जाना चाहिए।’’


यह आर्टिकल पंजाब केसरी टीम द्वारा संपादित नहीं है, इसे एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड किया गया है।

सबसे ज्यादा पढ़े गए

PTI News Agency

Related News

Recommended News