श्रीराम सेना ने कर्नाटक में कथित अवैध उपासना स्थलों की सूची बनाने का काम शुरू किया

punjabkesari.in Wednesday, May 18, 2022 - 10:31 PM (IST)

बेंगलुरु, 18 मई (भाषा) कर्नाटक के राज्यपाल थावरचंद गहलोत द्वारा धर्मांतरण रोधी अध्यादेश को मंजूरी देने के एक दिन बाद दक्षिणपंथी समूह श्रीराम सेना ने बुधवार को कहा कि वह उन जगहों की सूची तैयार कर रहा है, जिनके बारे में उसका दावा है कि वे उपासना के अवैध स्थान हैं।

श्रीराम सेना के प्रमुख प्रमोद मुतालिक ने कहा, ‘‘हमने अब तक चार जिलों में मकानों, विवाह भवनों और सामुदायिक भवनों में संचालित लगभग 500 ऐसे उपासना स्थलों की सूची तैयार की है जबकि अन्य जिलों में काम चल रहा है। हम इस महीने के अंत तक सरकार को यह सूची सौंप देंगे।’’
मुतालिक के अनुसार, बेलगावी, धारवाड़, बगलकोट और विजयपुर में अब तक किए गए सर्वेक्षण में 500 से अधिक ऐसे उपासना स्थलों की मौजूदगी का पता चला है। मुतालिक ने कहा कि उन्होंने अपने संगठन के जिलाध्यक्षों को अगले तीन से चार दिन में अपने-अपने जिलों में ऐसे स्थानों की सूची देने को कहा है।

उन्होंने कहा, ‘‘मैं 29 और 30 मई को मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई से मुलाकात करूंगा और उन्हें जिलेवार सूची दूंगा।’’
मुतालिक ने कहा कि यह अभियान तब शुरू हुआ जब मंत्रिमंडल ने कर्नाटक धर्म की स्वतंत्रता संरक्षण अधिकार अध्यादेश-2022 को मंजूरी दे दी। राज्यपाल द्वारा अध्यादेश को मंजूरी दिए जाने के बाद अभियान को और तेज कर दिया गया है।

अध्यादेश का उद्देश्य प्रलोभन, जबरदस्ती, अनुचित प्रभाव, गलत बयानी और छलपूर्ण तरीके से गैरकानूनी धर्मांतरण को रोकना है। कुछ ईसाई धार्मिक नेताओं के साथ-साथ विपक्षी दलों ने भी अध्यादेश का विरोध किया है।



यह आर्टिकल पंजाब केसरी टीम द्वारा संपादित नहीं है, इसे एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड किया गया है।

सबसे ज्यादा पढ़े गए

PTI News Agency

Related News

Recommended News