कर्नाटक कांग्रेस नेता शिवकुमार और पाटिल ने चिंतन शिविर में किया ‘‘ अस्थायी संघर्ष विराम’’

punjabkesari.in Friday, May 13, 2022 - 08:41 PM (IST)

बेंगलुरु, 13 मई (भाषा) कांग्रेस की कर्नाटक इकाई के अध्यक्ष डीके शिवकुमार और पार्टी की प्रचार समिति के प्रमुख एमबी पाटिल के बीच लगता है कि ‘अस्थायी संघर्ष विराम’ हो गया है। हालांकि, उनके समर्थकों के बीच सार्वजनिक रूप से खींचतान खत्म होती दिखाई नहीं दे रही है।
शिवकुमार ने हाल में दिए बयान में संकेत किया था कि सत्तारूढ़ भाजपा के उच्च शिक्षामंत्री सीएन अश्वथ नारायण ने संभवत: पाटिल से मुलाकात की है और भ्रष्टाचार के आरोपों से ‘‘सुरक्षा’’ की मांग की है।उनके इस बयान से दोनों गुटों के बीच तनातनी सार्वजनिक रूप से सामने आ गई।
बाबालेश्वर से विधायक पाटिल ने इन आरोपों का खंडन करते हए कर्नाटक प्रदेश कांग्रेस कमिटी (केपीसीसी) के अध्यक्ष के बयान पर कड़ा रुख अख्तियार किया था और कहा था कि वह इस मुद्दे को पार्टी के मंच पर उठाएंगे।
राजस्थान के उदयपुर में आयोजित कांग्रेस पार्टी के ‘चिंतन शिविर’ में शुक्रवार को शिवकुमार और पाटिल ने मुलाकात की। कहा जा रहा है कि पूर्व मुख्यमंत्री और कर्नाटक विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष सिद्धरमैया दोनों को साथ लाए हैं और मनमुटाव दूर कराया है।
शिवकुमार ने पाटिल के साथ तस्वीर साझा करते हुए ट्वीट किया,‘‘ हल्के-पुलके पल अपने मित्र और सहकर्मी एमबी पाटिल के साथ कांग्रेस के उदयपुर में आयोजित चिंतन शिविर में साझा करते हुए।’’
पूर्व कांग्रेस सांसद दिव्य स्पंदन (रम्या) ने शिवकुमार द्वारा पाटिल पर लगाए गए आक्षेप पर आश्चर्य व्यक्त किया जबकि नेताओं से एक इकाई के रूप में लड़ने का आह्वान किया। उन्होंने पार्टी के महासचिव व कर्नाटक के प्रभारी रणदीप सिंह सुरजेवाला और अन्य पार्टी पदाधिकारियों की इस संघर्ष विराम के लिए प्रशंसा करने के लिए ट्विटर का सहारा लिया।

उन्होंने चिंतन शिविर में ली गई शिवकुमार और पाटिल की तस्वीर पर टिप्पणी की‘‘बेहतर कार्य सुरजेवाला और केबी बायजू।’’


यह आर्टिकल पंजाब केसरी टीम द्वारा संपादित नहीं है, इसे एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड किया गया है।

सबसे ज्यादा पढ़े गए

PTI News Agency

Related News

Recommended News